बजट 2019-20: वो सब कुछ जो आपके लिए जानना जरूरी

0
906

न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को लोकसभा में पेश किया। देश के आम बजट में एक ओर जहां अमीरों पर टैक्स का बोझ बढ़ाया गया है, तो वहीं मिडिल क्लास के घर के सपनों को मुमकिन बनाने की कोशिश की गई है। हालांकि, मिडिल क्लास के लिए टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया गया। इसके अलावा गांव-देहात तक पानी, बिजली, शौचालय और गैस कनेक्शन को व्यापक स्तर पर मुमकिन बनाने पर जोर दिया गया है। मोदी सरकार ने अपने बजट में पेट्रोल-डीजल को एक रुपए मंहगा कर दिया है। वहीं, सोना तथा सिगरेट, गुटखा और बीड़ी पर भी टैक्स का दायरा बढ़ा दिया है।
वित्त मंत्री ने बजट पेश करते हुए बताया कि 2 करोड़ की आय तक टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया गया है। जबकि, 2 से 5 करोड़ तक की आय वालों पर 3 प्रतिशत का अतिरिक्त टैक्स लगाया गया है। वहीं, 5 करोड़ से अधिक आय वालों को 4 फीसदी अतिरिक्त टैक्स देना होगा। मिडिल क्लास के लोगों को सस्ता घर (45 लाख रुपए तक) खरीदने पर 3.5 लाख रुपए की टैक्स छूट दी जाएगी। अभी तक यह छूट 2 लाख रुपए थी। इस प्रकार इसे 1.50 लाख रुपए बढ़ा दिया गया है। आम बजट में छोटे दुकानदारों के लिए पेंशन की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा एक ग्रिड से बिजली, मेट्रो विस्तार, जल मार्ग से माल ढुलाई, सड़कों का विस्तार और रेलवे इंफ्रास्ट्रक्चर पर खर्च करने का ब्यौरा पेश किया गया।
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट पेश करते हुए बताया कि भारत इसी वर्ष 3 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बन जाएगा। उन्होंने बताया कि देश में बैंकिंग सेंक्टर में उठाए गए सुधारात्मक कदम के सकारात्मक नतीजे आए हैं। बैंकों का 1 लाख करोड़ रुपए का एनपीए कम हुआ है। जबकि, बीते 4 सालों में 4 लाख करोड़ रुपए की वसूली की गई।
बजट की खास बातें-
-टीवी के कुछ पुर्जों पर कस्टम ड्यूटी बढ़ाकर 15% की गई
-मोबाइल फोन पर कस्टम ड्यूटी बढ़ाकर 20% की गई
-हेल्थ, एजुकेशन सेस बढ़ाकर 4 फीसदी किया गया
-म्युचुअल फंड डिविडेंड पर 10 फीसदी टैक्स की घोषणा
-इक्विटी में निवेश पर 1 लाख रुपए की कमाई पर 10 फीसदी कैपिटल गेन्स टैक्स
-बुजुर्गों के लिए गम्भीर बीमारी पर 1 लाख रुपए की छूट
-बुजुर्गों के मेडिकल बीमा पर 50 हजार रुपए तक की छूट
-नौकरी पेशा लोगों के लिए स्टैंडर्ड डिडक्शन के तहत 40 हजार रुपए लकी छूट
-व्यक्तिगत इनकम टैक्स की दरों में कोई बदलाव नहीं
-कृषि उत्पादक कम्पनियों को 100% टैक्स छूट
-250 करोड़ रुपए तक के टर्न ओवर पर कॉरपोरेट टैक्स 25%
-वित्त वर्ष 2018 का वित्तीय घाटा 3.3% रहेगा
-राष्ट्रपति की सैलरी बढ़कर 5 लाख व उप राष्ट्रपति की सैलरी 4 लाख रुपए होगी
-नया सिस्टम 1 अप्रैल 2018 से लागू होगा
-सांसदों की सैलरी,भत्ते के लिए 5 साल का सिस्टम लागू किया जाएगा
-नेशनल इंश्योरेंस, ओरिएंटल इंश्योरेंस और यूनाइटेड इंश्योरेंस के विलय के बाद लिस्टिंग कराई जाएगी
– बीमा कम्पनियों नेशनल इंश्योरेंस, ओरिएंटल इंश्योरेंस और यूनाइटेड इंश्योरेंस का विलय होगा
-वित्त वर्ष 2019 के लिए विनिवेश का लक्ष्य 80 हजार करोड़ रुपए तय किया गया
-2 इंश्योरेंस कम्पनियों सहित 14 सरकारी कम्पनियों को लिस्ट कराने की योजना
-डिफेंस सेक्टर में विदेशी निवेश आसान किया गया
-1 लाख पंचायतों को इंटरनेट से जोड़ेंगे
-डिजिटल इंडिया के लिए 373 करोड़ रुपए का आवंटन
-डिजिटल इंडिया का आवंटन दोगुना किया गया
-उड़ान स्कीम के तहत 37 नए हैलीपैड जोड़ेंगे
-उड़ान स्कीम के तहत 56 नए एयरपोर्ट जोड़ने की योजना
-एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया को पैसे जुटाने की सुविधा दी जाएगी
-एयरपोर्ट की क्षमता 5 गुना बढ़ाई जाएगी
-बंगलुरु मेट्रो नेटवर्क को 17 हजार करोड़ रुपए का आवंटन
-इस बार वित्त मंत्री ने बजट को देश का बही खाता कहा।‌साथ ही इसे परम्परागत तरीके से ब्रीफकेस की जगह लाल मखमल नुमा कपड़े में लपेटकर लाया गया।
-पीएम नरेन्द्र मोदी ने 86 बार टेबल थपथपा कर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को प्रोत्साहित किया।