डी क्लीनिक का दावा: भारत की सभी स्वास्थ्य समस्याओं का समाधान कर देगी

0
249

न्यूज चक्र @ कोटा
हैल्थकेयर कम्पनी डी क्लीनिक का दावा है कि देश में वो ही ऐसी पहली कम्पनी है जो पब्लिक हैल्थकेयर ब्लॉकचेन (PHB) के लिए पूरी तरह समर्पित वाइटेलिटी क्लीनिकों का परिचालन करेगी। डी क्लीनिक की ओर से जारी एक वक्तव्य में यह बात कही गई है।
इस वक्तव्य में आगे कहा गया है कि, भारतीय स्वास्थ्य उद्योग लम्बे समय से अनेक चुनौतियों से जूझता आ रहा है। इनमें पुनर्वास केन्द्रों की कमी, स्वास्थ्य संसाधनों की अपर्याप्तता, मानक से कम स्तर का रोगी अनुभव आदि शामिल हैं। इनका सामना भारतीय स्वास्थ्य प्रणाली कर रही है। दुनिया के अन्य देशों की सरकारें भी ऐसी ही चुनौतियों का सामना कर रही हैं। ऐसी स्थिति में वो खास बात जो डी क्लीनिक को भारत में आकर्षित करती है, वह है प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार का दुबारा आना, जो स्थिर है और आगे की सोच रख कर चलती है। देश में अभिनव स्वास्थ्य के लिए निवेश का माहौल तैयार है। इसी के चलते डिक्लीनिक ने कुछ स्थानीय प्रदाताओं एवं प्रभावशाली पक्षों से बातचीत शुरू कर दी है।
कम्पनी का दावा है कि डी क्लीनिक के पब्लिक हैल्थकेयर ब्लॉकचेन पर उपभोक्ता और उनकी केयर टीम प्रोवाइडर के बीच क्लीनिकल सूचनाओं की निर्बाध, रियल टाइम शेयरिंग सम्भव होगी। भारत सरकार द्वारा तय किए गए मानकों, कन्सेंट मॉडल व इलेक्ट्रॉनिक हैल्थ रिकॉर्ड, शुद्ध नीतियों के कड़े अनुपालन से उपभोक्ताओं का डायग्नोसिस तीव्र, प्रभावी व ज्यादा सटीक होगा। इस प्रकार ज्यादा असरदार इलाज मुमकिन हो पाएगा। ऐसा इलाज सस्ता भी होगा।
डी क्लीनिक के सह संस्थापक सचिन गुप्ता का इस क्रम में कहना है कि, ’’दुनिया भर में मरीजों के लिए ऐसी कुछ ही समर्पित पोस्ट-ऑपरेटिव केयर सेवाएं हैं। अब मरीज छोटी-बड़ी सर्जरी के बाद डी क्लीनिक के रिज़ॉर्ट शैली के वाइटेलिटी केन्द्रों पर रिहैबिलिटेट कर सकते हैं।’’
वहीं डी क्लीनिक के सीईओ डॉ. रिचर्ड सातुर कहते है,’’सुविधाओं का स्वामित्व तथा स्थानीय विशेषज्ञ प्रदाताओं की सहभागिता से वाइटेलिटी एवं वैलनेस सेवाएं देने के लिए क्रांतिकारी पब्लिक हैल्थकेयर ब्लॉकचेन (PHB) प्रदान करना और इनका संयोजन दुनिया भर में उपभोक्ताओं को प्रदान किए जाने वाले उपचार को सफलतापूर्वक परिवर्तित करने की कुंजी है।’’
कम्पनी के अनुसार पब्लिक हैल्थ केयर ब्लॉक चेन (PHB) में यह क्षमता है कि वह भारत की स्वास्थ्य सम्बन्धी कई चिंताओं का हल कर सके। लाखों लेनदेन को रोजाना प्रोसैस कर सके। सभी प्रदाताओं को एकीकृत कर सके और लाखों उपभोक्ताओं के लिए उनमें इज़ाफा कर सके। डी क्लीनिक PHB एक ऐसी उद्देश्यपूर्ण व क्लीनिकली फोकस्ड ब्लॉक चेन है जो अन्य ब्लॉक चेन के साथ एकीकृत हो सकती है। जैसे भुगतान व ट्रैकिंग के लिए ज्यादा परम्परागत फाइनेंशियल ब्लॉकचेन। डी क्लीनिक में क्षमता है कि वह भारत के लिए काम कर सके। हाल ही में डी क्लीनिक ने बीपी बाटम हॉस्पिटल, इंडोनेशिया के साथ एक अनुबंध पर दस्तखत किए हैं , जिसके तहत PHB और वाइटेलिटी क्लीनिकों को बटाम में लाया जाएगा और फिर सारे इंडोनेशिया में इन्हें पहुंचाया जाएगा। प्राथमिक सहभागिता बीपी बटाम (बीपी बटाम हॉस्पिटल के जरिए) और डी क्लीनिक के बीच है। इन्होंने डेलॉइट साउथ ईस्ट एशिया और जेपी कंसल्टिंग को प्रोजेक्ट मैनेजमेंट व क्लीनिकल गवर्नेंस विशेषज्ञता के लिए शामिल किया है। ऐसा ही तरीका भारत में भी अपनाया जाएगा।
डॉ सिगित रियार्तो एम. केस (निदेशक, बीपी बटाम हॉस्पिटल) ने कहा, ’’बटाम स्वास्थ्य क्षेत्र में लीडर बनने के लिए उत्साहित है। हमारा मानना है कि डी क्लीनिक प्रभावी समाधान है। साथ में बीपी बटाम अथॉरिटी एवं बीपी बटाम हॉस्पिटल की विशेषज्ञता व सुविधाएं मिलकर इंडोनेशिया को एक अवसर देंगी कि वह सभी मरीजों को प्रभावशाली स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचा सकें।’’
डिप्टी असिस्टेंट मिनिस्ट्री ऑफ मॉनेटरी एंड बैलेंस ऑफ पेमेंट्स डॉ. एडी पामबुदी कहते हैं, ’’इंडोनेशियाई सरकार सावधानी व काफी दिलचस्पी से इस प्रोजेक्ट को देख रही है और हम इस ग्रुप व प्रोजेक्ट प्रियो को सफलता हेतु शुभकामना देते हैं।’’

सचिन गुप्ता, को फाउंडर, डी क्लीनिक