23 मई के पहले तो कांग्रेस के शगुन खराब, मोदी से मिली हार

0
140

न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क
चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन मामले में दायर की गई दो शिकायतों का निपटारा करते हुए उन्हें एक बार फिर क्लिन चिट दे दी। इससे पहले भी लएक अन्य शइकआयत पर चुनाव आयोग ने उन्हें बेदाग पाया था। मोदी के खिलाफ ये तीनों शिकायतें कांग्रेस ने की थीं।
पहला मामला महाराष्ट्र के नांदेड़ में 6 अप्रैल 2019 को पीएम मोदी की हुई रैली का है। इसे लेकर पीएम के खिलाफ आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप लगाया गया था।
इस शिकायत पर दिए अपने फैसले में चुनाव आयोग ने कहा है कि ‘नरेन्द्र मोदी द्वारा महाराष्ट्र के नांदेड़ में 6.04.2019 को दिए गए भाषण पर, मुख्य निर्वाचन अधिकारी, महाराष्ट्र की एक विस्तृत रिपोर्ट मिली।‌ आदर्श आचार संहिता के प्रावधानों और रिटर्निंग ऑफिसर, 16 नांदेड़ संसदीय क्षेत्र निर्वाचन आयोग द्वारा भेजी गई प्रमाणित प्रति के अनुसार 8 पृष्ठों के भाषण की पूरी प्रतिलिपि के परीक्षण के बाद विस्तार से जांच की गई। इसमें किसी भी तरह से आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन नहीं पाया गया है।’
पीएम मोदी के इस भाषण से था ऐतराज
नांदेड़ की रैली में पीएम मोदी ने कहा था कि ‘कांग्रेस और उसके साथी भारत में दो प्रधानमंत्री चाहते हैं। एक दिल्ली में और दूसरा जम्मू-कश्मीर में। कांग्रेस जम्मू- कश्मीर से अफस्पा (AFSPA) कानून हटाएगी, ताकि आतंकियों के सामने हमारे जवान लाचार हो जाएं, वो झूठे केसों में फंस जाएं।’ पीएम ने कहा था कि ‘कांग्रेस में भगदड़ मची है। इसलिए नामदार सुरक्षित सीट से चुनाव लड़ रहे हैं।
गौरतलब है कि बीजेपी ने नांदेड़ से चिखलीकर प्रताप गोविंदराव को उम्मीदवार बनाया है, जबकि कांग्रेस ने अशोक चव्हाण को टिकट दिया है!
वाराणसी की रैली को लेकर लगे आरोप पर भी क्लीन चिट
25 अप्रैल को यूपी के वाराणसी में पीएम मोदी के एक भाषण पर और 26 अप्रैल को वहीं एक निजी चैनल को इंटरव्यू देने को लेकर इनके खिलाफ आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज कराई गई थी। यह शिकायत कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने की थी। इसकी जांच के बाद भी चुनाव आयोग ने कहा कि इनमें किसी भी तरह से आचार संहिता का उल्लंघन नहीं है।