हार्दिक पटेल को जोरदार झटका, नहीं लड़ पाएगा चुनाव

0
210

न्यूज चक्र @ अहमदाबाद/सेन्ट्रल डेस्क
गुजरात हाईकोर्ट ने शुक्रवार को हाल ही में कांग्रेस में शामिल हुए विवादित पाटीदार नेता हार्दिक पटेल को जोरदार झटका दिया। इससे अब वह चुनाव नहीं लड़ पाएगा। दरअसल गुजरात हाईकोर्ट ने दंगा भड़काने के आरोप पर निचली अदालत से उसे मिली दो साल की सजा पर रोक लगाने से इनकार कर दिया। गत वर्ष 2018 में अदालत ने उसे दोषी मानते हुए यह सजा सुनाई थी। गुजरात में लोकसभा चुनावों के लिए नामांकन की अंतिम तिथि 4 अप्रैल है।
उल्लेखनीय है कि हार्दिक पटेल ने पिछली सुनवाई के दौरान कहा था कि अगर उसे हाईकोर्ट से राहत नहीं मिली तो वो जल्द ही सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएगा। कांग्रेस में शामिल होने से चार दिन पहले पटेल ने हाईकोर्ट से आग्रह किया था कि विसनगर के भाजपा विधायक ऋषिकेश पटेल के कार्यालय पर तोड़फोड़ और दंगा करने के मामले में मिली सज़ा के ख़िलाफ़ स्थगन आदेश दिया जाए। गौरतलब है कि यह हिंसा 23 जुलाई 2015 को हुई थी, जब उसके नेतृत्व में पाटीदारों ने पहली बार रैली की थी।
राज्य सरकार ने उसकी इस याचिका के ख़िलाफ़ दस्तावेज़ पेश करने के लिए कोर्ट से दो बार समय मांगा, इस पर कोर्ट ने उसे मोहलत दे दी। हार्दिक के वक़ील ने सरकार के और समय मांगने की याचिका का जमकर विरोध करते हुए इसे ‘मामले को लम्बा खींचने की चाल’ बताया था, ताकि उसके ख़िलाफ़ मामला लम्बित रहे और इस वजह से उसकी चुनावी राजनीति आगे नहीं बढ़ पाए।
सरकार ने कोर्ट में हलफ़नामा दायर कर पटेल के ख़िलाफ़ पिछले चार सालों में दर्ज 24 एफआईआर का हवाला दिया। सरकार ने अपने हलफ़नामे में दावा किया कि उसने बार-बार जो अपराध किए हैं, वह हाईकोर्ट से उसे कोर्ट की अवमानना मामले में मिली ज़मानत की शर्तों का उल्लंघन है। सरकार ने कहा कि पिछले अगस्त माह में जब पटेल ने हाईकोर्ट में अपील की तो अदालत ने दोषसिद्धि के ख़िलाफ़ उसके आवेदन पर ग़ौर नहीं कर पटेल की सज़ा को निलम्बित कर दिया।