लोकसभा चुनाव 2019: चुनाव आयोग ने की घोषणा, जानें कब-कहां चुनाव, कैसी रहेंगी व्यवस्थाएं

0
109

न्यूज चक्र @ नई दिल्ली/सेन्ट्रल डेस्क
देश का सियासी भविष्य तय करने वाले लोकसभा चुनाव का इंतजार अब खत्म हो चुका है। चुनाव आयोग ने रविवार शाम विज्ञान भवन में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी तारीखों सहित अन्य सभी व्यवस्थाओं का ऐलान कर दिया।
मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने बताया कि इस बार देशभर में 11 अप्रैल से शुरू होकर 19 मई तक 7 चरणों में मतदान होंगे। वहीं 23 मई को मतगणना होगी। इसी के साथ देश की नई सरकार की स्थिति साफ हो जाएगी।
मुख्य चुनाव आयुक्त अरोड़ा ने बताया कि पहले चरण की वोटिंग 11 अप्रैल, दूसरे चरण की वोटिंग 18 अप्रैल, तीसरे चरण की वोटिंग 23 अप्रैल, चौथे चरण की वोटिंग 29 अप्रैल, पांचवें चरण की वोटिंग 6 मई, छठे चरण की वोटिंग 12 मई और सातवें व अंतिम चरण की वोटिंग 19 मई को होगी।
पहले चरण में 20 राज्यों की 91 सीटें, दूसरे चरण में 13 राज्यों की 97 सीटें, तीसरे चरण में 14 राज्यों की 115 सीटें, चौथे चरण में 9 राज्यों की 71 सीटें, पांचवें चरण में 7 राज्यों की 51 सीटें, छठे चरण में 7 राज्यों की 59 सीटें और सातवें चरण में 8 राज्यों की 59 सीटों पर चुनाव होगा।
देशभर में आचार संहिता लागू
लोकसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा के साथ ही देशभर में आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में मुख्य चुनाव आयुक्त अरोड़ा ने कहा, ‘कोई भी इसका उल्लंघन करता पाया जाता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। आपराधिक पृष्ठभूमि वाले उम्मीदवारों को अपने आपराधिक रिकॉर्ड की जानकारी देगी होगी। वहीं रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक लाउडस्पीकर का इस्तेमाल वर्जित रहेगा।’
मतदान के सातों चरण ऐसे होंगे
लोकसभा चुनाव के पहले चरण में 91, दूसरे चरण में 97, तीसरे चरण में 115, चौथे चरण में 71, पांचवें चरण में 51, छठे चरण में 59, सातवें चरण में 59 सीटें होंगी।
इस बार 84.3 मिलियन वोटर बढ़े। इस बार के चुनाव में 90 करोड़ वोट डाले जाएंगे ।
-पहले चरण में आंध्र प्रदेश की 24, अरुणाचल प्रदेश की 2, असम की 5, बिहार की 4, छत्तीसगढ़ की 1, जम्मू-कश्मीर की 2, महाराष्ट्र की 7, मणिपुर की 1, मेघालय की 2, मिजोरम की 1, नागालैंड की 1, ओडिशा की 4, सिक्किम की 1, तेलंगाना की 17, त्रिपुरा की 1, उत्तर प्रदेश की 8, उत्तराखंड की 5, पश्चिम बंगाल की 2, अंडमान एंड निकोबार की 1 और लक्षद्वीप की 1 सीट पर मतदान होगा।
-दूसरे चरण में असम की 5, बिहार की 5, छत्तीसगढ़ की 3, जम्मू-कश्मीर की 2, कर्नाटक की 14, महाराष्ट्र की 10, मणिपुर की 1, ओडिशा की 5, तमिलनाडु की सभी 39, त्रिपुरा की 1, उत्तर प्रदेश की 8, पश्चिम बंगाल की 3 और पुदुचेरी की 1 सीटों के लिए 18 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे।
-तीसरे चरण में असम की 4, बिहार की 5, छत्तीसगढ़ की 7, गुजरात की 26, गोवा की 2, जम्मू-कश्मीर की1, कर्नाटक की14, केरल की 20, महाराष्ट्र की14, ओडिशा की 6, यूपी की 10, पश्चिम बंगाल की 5, दादरा एवं नगर हवेली की 1 व दमन दीव की 1 सीटों पर 23 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे।
-चौथे चरण में 29 अप्रैल को बिहार की 5, जम्मू-कश्मीर की 1, झारखंड की 3, मध्यप्रदेश की 6, महाराष्ट्र की 17, ओडिशा की 6, राजस्थान की 13, उत्तर प्रदेश की 13 व पश्चिम बंगाल की 8 सीटों पर मतदान होंगे।
-पांचवें चरण में 6 मई को बिहार की 5, जम्मू-कश्मीर की 2, झारखंड की 4, मध्यप्रदेश की 7, राजस्थान की 12, उत्तर प्रदेश की 14 और पश्चिम बंगाल की 7 सीटों पर मतदान होगा।
-छठे चरण में 12 मई को बिहार की 8, हरियाणा की 10, झारखंड की 4, मध्य प्रदेश की 8, उत्तर प्रदेश की 14, पश्चिम बंगाल की 8 और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली की सभी सात लोकसभा सीटों पर वोट डाले जाएंगे.
सातवें चरण में 19 मई को बिहार की 8, झारखंड की 3, मध्य प्रदेश की 8, पंजाब की 13, पश्चिम बंगाल की 9, चंडीगढ़ की 1, उत्तर प्रदेश की 13 और हिमाचल प्रदेश की 4 सीटों पर वोट डाले जाएंगे।
-सातवें चरण में 19 मई को बिहार की 8, झारखंड की 3, मध्य प्रदेश की 8, पंजाब की 13, पश्चिम बंगाल की 9, चंडीगढ़ की 1, उत्तर प्रदेश की 13 और हिमाचल प्रदेश की 4 सीटों पर वोट डाले जाएंगे।
बड़ी बातें
यदि कोई उम्मीदवार नोमिनेशन में अपने पेन कार्ड का उल्‍लेख नहीं करेगा तो उसकी उम्मीदवारी निरस्त कर दी जाएगी।
अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम, आंध्र प्रदेश और ओडिशा में लोकसभा चुनावों के साथ ही विधानसभा चुनाव भी होंगे। आंध्र प्रदेश, अरुणाचल, गोवा, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, केरल, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, पंजाब, सिक्किम, तेलंगाना, तमिलनाडु, उत्तराखंड, अंडमान-निकोबार, दादर एवं नागर हवेली, दिल्ली, पुदुचेरी व चंडीगढ़ में एक ही राउंड में मतदान होंगे। झारखंड, मध्‍यप्रदेश, महाराष्ट्र और ओडिशा में चार चरणों में चुनाव कराए जाएंगे। जम्मू-कश्मीर में पांच चरणों में चुनाव कराया जाएगा। राजस्थान, मणिपुर व तेलंगाना में दो चरणों में मतदान होगा। उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल में सात चरण में चुनाव होंगे। असम और छत्तीसगढ़ में तीन चरणों में वोट डाले जाएंगे। सभी मतदान केन्द्रों में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे, गूगल और फेसबुक भी फेक न्यूज और हेट स्पीच पर रखेंगे नजर।
सीइसी सुनील अरोड़ा ने कहा कि सुरक्षा कारणों से जम्मू-कश्मीर विधानसभा के चुनाव लोकसभा के साथ नहीं कराए जाएंगे।
लोकसभा चुनाव के लिए टोल फ्री नंबर 1950 होगा। चुनाव आयोग से शिकायत के लिए एप बनाया गया। शिकायत के 100 मिनट में चुनाव आयोग कार्रवाई करेगा।
आचार संहित तोड़ने पर सख्‍त कार्रवाई की जाएगी। निष्‍पक्ष चुनाव के लिए भी सभी तरह के इंतजाम किए जाएंगे। कंट्रोल रूम में 24 घंटे टोल फ्री नंबर होगा।
चुनाव में नोटा का इस्‍तेमाल होगा, सभी संवदेनशील स्‍थानों पर सीआरपीएफ की तैनाती होगी। अभी से आचार संहित लागू। रात दस बजे से सुबह 6 बजे तक लाउडस्‍पीकर पर बैन होगा।
चुनाव के लिए दस लाख मतदान केन्द्र बनाए जाएंगे। इस बार ईवीएम पर प्रत्‍याशी की तस्‍वीर भी होगी। सभी पोलिंग बूथ पर वीवीपेट का इस्‍तेमाल होगा।
मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त सुनील अरोड़ा ने कहा, सुरक्षा बलों की तैनाती को लेकर राज्‍यों से सम्पर्क किया। गृह मंत्रालय से बात की। चुनाव के मद्देनजर परीक्षाओं, मौसम का ध्‍यान रखा।