इस्लामिक देशों के सम्मेलन में सुषमा स्‍वराज का पाकिस्‍तान पर जोरदार निशाना

0
127

न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क/ अबु धाबी
विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने शुक्रवार को संयुक्‍त अरब अमीरात (UAE) में इस्‍लामिक सहयोग संगठन (OIC) के विदेश मंत्रियों की बैठक में हिस्‍सा लिया, जिसमें पाकिस्‍तान का नाम लिए बगैर उन्‍होंने आतंकवाद के मसले पर दुनिया को बड़ा संदेश दिया। उन्‍होंने कहा कि आतंकवाद मानवता के खिलाफ है और पूरी दुनिया को इसके खिलाफ एकजुट होने की जरूरत है।
सुषमा ने इस बैठक में ‘गेस्‍ट ऑफ ऑनर’ के तौर पर हिस्‍सा लिया। यह दो दिवसीय बैठक ऐसे समय में हो रही है, जबकि पुलवामा हमले और उसके बाद बालाकोट में भारतीय वायुसेना की एयर स्‍ट्राइक के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव चरम पर है। भारत ने जहां इस बैठक में पहली बार हिस्‍सा लिया है, वहीं पाकिस्‍तान ने भारत को आमंत्रित करने पर आपत्ति जताते हुए इसमें शिरकत करने से इनकार कर दिया, जिसके बाद यहां पाकिस्‍तान की कुर्सी खाली रही।
सुषमा ने इस्लामिक सहयोग संगठन के विदेश मंत्र‍ियों की बैठक के उद्घाटन सत्र को सम्बोधित करते हुए कहा कि 2019 कई मायनों में खास है। ओआईसी जहां गोल्‍डन जुबली वर्ष मना रहा है, वहीं भारत राष्‍ट्रप‍िता महात्‍मा गांधी की 150वीं जयंती मना रहा है, जिन्‍होंने दुनियाभर में अहिंसा का संदेश दिया। उन्‍होंने आतंकवाद को मानवता का शत्रु करार देते हुए कहा कि यह पूरी दुनिया में लोगों का जीवन बर्बाद कर रहा है और अस्थिरता फैला रहा है। उन्‍होंने कहा कि इसकी पहुंच बढ़ती जा रही है और इससे होने वाला नुकसान भी बढ़ता जा रहा है, इसलिए जरूरी है कि हर स्‍तर पर सभी मिलकर इसका मुकाबला करें।
विदेश मंत्री ने कहा, ‘आतंकवाद विभिन्न कारणों का सहारा लेता है, लेकिन अपने मंसूबों में कामयाब होने के लिए यह धर्म को तोड़-मरोड़ कर पेश करता है और भ्रमित आस्थाओं से प्रेरित होता है।’ उन्‍होंने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ जंग किसी धर्म के खिलाफ नहीं है। उन्‍होंने यह भी कहा कि इस्‍लाम सहित दुनिया का हर धर्म शांति, करुणा और भाईचारे का संदेश देता है।
पाकिस्‍तान को कड़ा संदेश देते हुए सुषमा ने दो टूक कहा, ‘अगर मानवता को बचाना है तो हमें आतंकवाद को प्रश्रय और प्रोत्‍साहन देने वाले देशों से कहना होगा कि वे अपने यहां आतंकियों के सुरक्षित पनाहगाह बंद करें, उन्‍हें मिलने वाली वित्‍तीय मदद पर रोक लगाएं।’
इस दौरान उन्‍होंने यह भी कहा कि भारत की करीब 1.3 अरब आबादी में 18.5 करोड़ से अधिक मुस्‍ल‍िम आबादी है, जो देश की विविधता को दर्शाता है। इंडोनेशिया, मलेशिया का जिक्र करते हुए उन्‍होंने कहा कि भारत के एशिया, अफ्रीका सहित दुनियाभर में कई मुस्लिम देशों से अच्‍छे सम्बन्ध हैं और आर्थिक विकास के लिए भारत सबके साथ खड़ा है।