लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हूडा ने कांग्रेस में शामिल होने की खबरों को गलत बताया

0
76

न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क
उरी हमले के बाद पाकिस्तान पर भारतीय सेना द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक की निगरानी करने वाले लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हूडा (रिटायर्ड) ने कांग्रेस में शामिल होकर विजन डाक्यूमेंट तैयार करने के सवाल को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि मैंने कांग्रेस ज्वॉइन नहीं की है।
गुरुवार को ऐसी खबरें सामने आईं थीं कि कांग्रेस ने लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हूडा (रिटायर्ड) को पार्टी में शामिल करते हुए बड़ी जिम्मेदारी दी है। ऐसा कहा जा रहा था कि जनरल हूडा कांग्रेस का विजन डॉक्यूमेंट भारत के सुरक्षा को केन्द्र में रखकर बनाएंगे और इसके लिए कांग्रेस ने टास्क फोर्स का भी गठन किया है, लेकिन हूडा के इन खबरों को नकार देने से सारी अटकलों पर विराम लग गया है।
मैंने कांग्रेस ज्वॉइन नहीं की है: डीएस हूडा
एक रिपोर्ट के मुताबिक, सर्जिकल स्ट्राइक को लीड कर चुके हीरो रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हूडा ने कांग्रेस में शामिल होने की खबरों को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि मैंने कांग्रेस ज्वॉइन नहीं की है।
तैयार करेंगे विजन पेपर
गुरुवार को कांग्रेस पार्टी के ट्विटर हैंडल से किए गए ट्वीट में बताया गया, ‘कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राष्ट्रीय सुरक्षा पर टास्क फोर्स गठित करने के लिए आज लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हूडा (रिटायर्ड) से मुलाकात की, जो देश के लिए एक विजन पेपर तैयार करेंगे।’ गौरतलब है कि कांग्रेस पार्टी ने सर्जिकल स्ट्राइक के अगुआ को यह जिम्मेदारी ऐसे समय में सौंपी है जब चुनाव की घोषणा होने में कुछ ही हफ्ते बचे हैं।
हूडा ने कहा था, सर्जिकल स्ट्राइक को इतने प्रचार की जरूरत नहीं थी
पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में पल रहे आतंकियों के खिलाफ 2016 में भारतीय सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक कर कई आतंकी कैम्पों को नष्ट कर दिया था। इस ऑपरेशन में कई आतंकी मारे गए थे। केन्द्र सरकार ने इसे जोर-शोर से प्रचारित भी किया। हालांकि रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल हूडा ने कहा था कि सर्जिकल स्ट्राइक के इतने प्रचार की जरूरत नहीं थी। इसी के चलते हूडा और कांग्रेस की निकटता को महत्वपूर्ण माना जा रहा है।
सर्जिकल स्ट्राइक के दो साल बाद तत्कालीन लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) डीएस हूडा ने कहा था कि इस हमले के इतना प्रचार की जरूरत नहीं थी। हूडा ने कहा था, ‘मुझे लगता है कि इसका कुछ ज्‍यादा ही प्रचार किया गया। सेना का ऑपरेशन महत्‍वपूर्ण था और हमें ऐसा करना ही था। पर इसका कितना राजनीतिकरण होना चाहिए था, यह कितना सही है या गलत यह बात राजनेताओं से पूछी जानी चाहिए।’ हालांकि उस वक्त आर्मी प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने डीएस हूडा के बयान को निजी विचार बताया था।
पीएम ने सर्जिकल स्ट्राइक का राजनीतिक इस्तेमाल किया: राहुल
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सर्जिकल स्ट्राइक को ‘जरूरत से ज्यादा तूल दिए जाने’ सम्बन्धी सेना के पूर्व अधिकारी लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) डीएस हूडा के बयान को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर हमला बोला था। उन्होंने दावा किया था कि पीएम मोदी ने सेना का इस्तेमाल राजनीतिक लाभ के लिए किया और इस पर उन्हें कोई शर्म नहीं है।