भाजपा किसान मोर्चा ने बताया सौ फीसदी खराबा, पीड़ित किसानों को तुरंत राहत की मांग

0
93


न्यूज चक्र @ बून्दी

भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के जिलाध्यक्ष एवं माटूंदा सरपंच महेन्द्र कुमार शर्मा ने बुधवार रात जिले में बारिश व ओलावृष्टि से तबाह हुई फसलों के बदले में पीड़ित किसानों को मुख्यमंत्री सहायता कोष व प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत तुरंत राहत दिए जाने की मांग की है। साथ ही इस प्राकृतिक आपदा में जिन ग्रामीणों के कच्चे-पक्के मकानों को नुकसान हुआ उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना से लाभान्वित करने की आवश्यकता बताई है।
शर्मा ने बताया कि उन्होंने जिले के कई गांवों में प्राकृतिक आपदा से हुई तबाही का जायजा लिया। इसके अलावा अन्य किसानों व ग्रामीणों से भी सम्पर्क कर इस सम्बन्ध में जानकारी ली। इसमें पता चला कि जिले में चने व सरसों की फसल शत-प्रतिशत खराब हो गई है। गेहूं की फसल में भी 95 फीसदी तक खराबा हुआ है। हरे चारे के साथ सूखे चारे को भी भारी नुकसान हुआ है। पपीते आदि फलदार फसल भी इसकी चपेट में आई है। इसके अलावा इस दौरान चली तेज हवाओं से कई मकानों के चद्दर उड़ गए, कुछ मकानों की दीवारें ढह गईं। इसके चलते पीड़ितों को अन्य स्थानों पर रात गुजारनी पड़ी थी।
जनसुनवाई में सामने आई तबाही की तस्वीर
सरपंच शर्मा ने बताया कि गुरुवार को उन्होंने ग्राम पंचायत कार्यालय में पीड़ित ग्रामीणों की जनसुनवाई की। इसमें सामने आया कि अचानक खराब हुए मौसम से कई लोगों का तो खाने-पीने का सामान तक पूरी तरह खराब हो गया, घर में सोने की जगह तक नहीं बची। मोहन लाल नागर के पक्के मकान की 8 फीट दीवार ढह गई। वहीं दुर्गा शंकर, दिलबाग सिंह, हरदेव सिंह, सीताराम बैरवा, देवकिशन सैनी, सत्यनारायण सैनी, मंजू ऐरवाल (विधवा), गणेश लाल शर्मा, घांसी लाल माली, शांति बाई गाड़िया लुहार (विधवा) आदि के मकानों के चद्दर उड़ गए। अनाथ बालक दौलतराम पुत्र मथुरा लाल व उसके भाई को भी घर को भारी नुक़सान हो जाने से अन्यत्र रात गुजारनी पड़ी थी। जनसुनवाई में माया पुत्र दुर्गा लाल सैनी ने बारिश में नरेगा का जॉब कार्ड खराब हो जाने से नए कार्ड के लिए आवेदन भी किया।
ग्राम पंचायत के सभागार में मिलेगा आश्रय
सरपंच शर्मा ने बताया कि इस विपदा को देखते हुए ग्राम पंचायत ने निर्णय लिया कि कार्यालय के सभागार में इस प्रकार की विपदा के पीड़ितों को आश्रय दिया जाएगा। यह सुविधा तुरंत लागू कर दी गई।