राजस्थान विधानसभा चुनाव: जानिये कांग्रेस की सरकार बना रहे सभी एक्जिट पोल के आंकड़े

0
230

न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क
राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए आज सुबह 8 से शाम 5 बजे तक मतदान हुआ। मतदान खत्म होने के साथ ही एक्जिट पोल रिजल्ट आने लगे। इनमें से अधिकतर ने राज्य में स्पष्ट बहुमत से कांग्रेस की सरकार बनने का अंदाजा लगाया है। चुनाव आयोग ने मतदान समाप्ति के समय के तुरंत बाद आए आंकड़ों के अनुसार इस बार 72. 59 फीसद मतदान होने की जानकारी दी। हालांकि इसके बाद भी काफी मतदान केन्द्रों में अंदर आ चुके मतदाताओं के द्वारा मतदान करना जारी था। इस प्रकार कल सुबह मतदान के जो अपडेट आंकड़े आएंगे, उनमें यह 2 प्रतिशत तक और बढ़ने की उम्मीद है।
राजस्थान विधानसभा की 200 सीटों में से 199 पर चुनाव हुए हैं। यहां बहुमत के लिए किसी भी पार्टी को 100 सीटें लानी होंगी। ज्‍यादतर एग्जिट पोल राजस्‍थान में कांग्रेस को ब‍हुमत मिलता दिखा रहे हैं। एनडीटीवी के पोल ऑफ एग्जिट पोल्‍स के अनुसार यहां कांग्रेस को 112 सीटें मिलती दिख रही हैं, जबकि बीजेपी को 78 सीटें। वहीं बसपा के खाते में एक सीट जाती दिख रही है, बाकी 8 सीटों पर अन्‍य उम्मीदवार जीत सकते हैं। इसी प्रकार इंडिया टुडे- एक्सिस माई इंडिया के एग्जिट पोल के अनुसार बीजेपी को 55-72 सीटें मिल सकती हैं। इसमें कांग्रेस को 119-141 सीटें मिलने का अनुमान है। वहीं बसपा 1-3 सीटें और अन्‍य 3-8 सीटें जीत सकते हैं। रिपब्लिक-सी वोटर का एग्जिट पोल बीजेपी को 52-68 व कांग्रेस को 129-145 सीटें मिलती दिखा रहा है।
वहीं एबीपी न्‍यूज-सीएसडीएस ने बीजेपी को 83 सीटें दी हैं, जबकि कांग्रेस को 101 सीटें। वहीं अन्‍य को 15 सीटें दी हैं। टाइम्‍स नाउ-सीएनएक्‍स के एग्जिट पोल के अनुसार बीजेपी 85 सीटें, जबकि कांग्रेस को 105 सीटें मिल सकती हैं। वहीं बसपा को 2 और अन्‍य को 7 सीटें मिलती दिख रही हैं। जी राजस्‍थान के अनुसार बीजेपी 80 सीटें जीत सकती है, जबकि कांग्रेस 110 सीटों के साथ स्‍पष्‍ट बहुमत पा सकती है। रिपब्लिक टीवी- जन की बात के एग्जिट पोल के अनुसार बीजेपी 83-103 जीत सकती है और कांग्रेस 81-101 सीटें पा सकती है। इस तरह दोनों के बीच कांटे की टक्‍कर सम्भव है। फर्स्‍ट इंडिया राजस्‍थान के एग्जिट पोल के अनुसार भी राज्‍य में कांग्रेस की सरकार बनने जा रही है। बीजेपी को 65-70 सीटें मिल सकती हैं, जबकि कांग्रेस 110-115 सीटें जीत सकती है। न्‍यूज नेशन ने बीजेपी को 89-93 सीटें मिलने का अनुमान जताया है, जबकि कांग्रेस को 99-103 सीटें मिल सकती हैं। न्‍यूज 24-पेस मीडिया के अनुसार बीजेपी 70-80 सीटें जीत सकती है, जबकि कांग्रेस 110-120 सीटें जीतकर स्‍पष्‍ट बहुमत के साथ सरकार बना सकती है। इंडिया टीवी-सीएनएक्‍स के एग्जिट पोल के अनुसार बीजेपी 80-90 सीटें जीत सकती है, जबकि कांग्रेस 100-110 सीटें जीतेगी। न्‍यूज एक्‍स- NETA के अनुसार बीजेपी 80 सीटें जीत सकती है, जबकि कांग्रेस 112 सीटों के साथ सरकार बना सकती है।
उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान की सीमा से सटे इस राज्य में चाक चौबंद चौबंद सुरक्षा व्यवस्था के साथ मतदान हुआ है। राज्य में 20 लाख से अधिक मतदाताओं ने पहली बार वोट डाले। मतदान के लिए दो लाख से ज्यादा ईवीएम-वीवीपैट का इस्तेमाल किया गया और ईवीएम के साथ-साथ पूरे राज्य में वीवीपैट मशीनों का उपयोग पहली बार हुआ। मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार ने संवाददाताओं को बताया कि राज्य में स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न कराने के लिए सभी तैयारियां की गई थीं।
मतदान निष्पक्ष तथा शांतिपूर्ण ढंग से करवाने का जिम्मा 1लाख 44 हजार 941 जवानों पर था। इनमें केन्द्रीय सुरक्षा बलों की 640 कम्पनियां शामिल थीं। राज्य में कुल 387 नाके और चैक पोस्ट लगाए गए थे। उन्होंने बताया कि 199 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए कुल 4 करोड़ 37,761 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। इनमें 2 करोड़ 47 लाख 22 हजार 365 पुरुष तथा 2 करोड़ 27 लाख 15 हजार 396 महिला मतदाता हैं। इनमें से पहली बार मतदान करने लायक युवा मतदाताओं की संख्या 20 लाख 20 हजार 156 है। राज्य के 199 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों से कुल 2 हजार 274 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे।
इंडियन नेशनल कांग्रेस से 194, भारतीय जनता पार्टी से 199 उम्मीदवार, बहुजन समाज पार्टी से 189, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी से 01, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी से 16 व मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी से 28 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे। इनके अलावा 817 गैर मान्यता प्राप्त दलों के प्रत्याशी व 830 निर्दलीय उम्मीदवार हैं। राजस्थान में विधानसभा की कुल सीटों की संख्या 200 हैं। इनमें से अलवर जिले के रामगढ़ विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी लक्ष्मण सिंह का 29 नवम्बर को निधन हो गया था। इसलिए इस सीट पर चुनाव स्थगित कर देने से 199 सीटों पर ही चुनाव हुए।इस बार मतदान के लिए राज्य के चार लाख से ज्यादा दिव्यांगजनों के लिए विशेष सुविधा की गई थी।