राजस्थान चुनाव 2018: कांग्रेस ने 28 बागियों को 6 साल के लिए पार्टी से निकाला

0
132

न्यूज चक्र @ जयपुर
समझाने-मनाने की तमाम कोशिशें नाकाम रहने के बाद कांग्रेस ने अपने अधिकृत प्रत्याशियों के खिलाफ चुनाव लड़ रहे 28 बागियों को रविवार रात 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया। इनमें 1 पूर्व केन्द्रीय राज्य मंत्री, 9 पूर्व विधायक, 8 प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य, 1 प्रदेश महासचिव, 2 सचिव से लेकर जिलाध्यक्ष, प्रधान आदि शामिल हैं। एआईसीसी के महासचिव व राजस्थान प्रभारी अविनाश पांडे की अनुमति से प्रदेश कांग्रेस प्रमुख सचिन पायलट ने यह कार्यवाही की।
इनके खिलाफ हुई कार्यवाही
सूची के अनुसार पीसीसी सदस्य सादुलशहर के ओम विश्नोई, गंगानगर के राजकुमार गौड़, करणपुर के पूर्व अध्यक्ष पृथ्वीपाल सिंह संधु, रायसिंहनगर के पूर्व विधायक सोहन नायक, तारानगर के पूर्व विधायक सीएस बैद, रतनगढ़ के पूसाराम गोदारा, सुजानगढ़ की प्रधान संतोष मेघवाल, पूर्व केन्द्रीय राज्यमंत्री खंडेला के महादेवसिंह खंडेला, नीमकाथाना के पूर्व विधायक रमेशचंद्र खंडेलवाल, पीसीसी सदस्य शाहपुरा के आलोक बेनीवाल, दूदू के बाबूलाल नागर, बस्सी के लक्ष्मण मीणा, किशनगढ़ बास के दीपचंद खैरिया, कठूमर के पूर्व विधायक रमेश खींची, पूर्व जिला प्रमुख महुवा के अजीतसिंह महुवा व गंगापुर सिटी के पूर्व विधायक रामकेश मीणा को छह साल के लिए निष्कासित कर दिया गया है। इसी क्रम में बामनवास के पूर्व विधायक नवलकिशोर मीणा, किशनगढ़ के पूर्व विधायक नाथूराम सिनोदिया, लाडनूं से पीसीसी सदस्य जगन्नाथ बुरडक़, जैतारण के पीसीसी सचिव राजेश कुमार कुमावत, पाली के पीसीसी सदस्य भीमराज भाटी, मारवाड़ जंक्शन से पूर्व विधायक खुशवीरसिंह जोजावर, जैसलमेर से पीसीसी महासचिव सुनीता भाटी, आहोर से पीसीसी सचिव जगदीश चौधरी, सिरोही के पूर्व विधायक संयम लोढ़ा, सलूम्बर प्रधान रेशमा मीणा, शाहपुरा से राजस्थान घुमंतु अर्ध घुमंतु बोर्ड के पूर्व चैयरमेन गोपाल केशावत व बून्दी जिलाध्यक्ष सीएल प्रेमी के खिलाफ भी ऐसी ही कार्यवाही की गई है।