सूची जारी होने में हो रही देरी से कांग्रेस की फजीहत, सोनिया ने दी दखल

0
310

न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क
राजस्थान विधान सभा चुनाव को लेकर नामांकन दाखिल करने के दूसरे दिन तक भी कांग्रेस अपने उम्मीदवारों की पहली सूची तक जारी नहीं कर सकी। इससे आमजन में तो उसकी फजीहत हो ही रही है, टिकटों की उम्मीद में अपनी नींद और चैन उड़ाए बैठे नेताओं की बेताबी जवाब दे कर खीज बढ़ती जा रही है। सूत्र बता रहे हैं कि कांग्रेस को इस स्थिति का सामना अपने कद्दावर नेताओं की जिद और आपसी खींचतान के कारण करना पड़ रहा है। राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी इन हालातों को नहीं सम्भाल सके तो अंतत: सोनिया गांधी को इसमें दखल देना पड़ा।
गौरतलब है कि कई दिन से दिल्ली में प्रत्याशियों के चयन में जुटी कांग्रेस की स्क्रीनिंग कमेटी और सीईसी की बैठक के बाद सोमवार रात को सूची जारी कर देने के संकेत मिले थे। मगर मंगलवार रात तक भी यह सूची जारी नहीं हो पाई। अब इसके बुधवार को सामने आने की सूचना है। इससे पहले अपराह्न 3 बजे पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री एवं राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोनिया गांधी से मुलाकात की। सोनिया गांधी के आवास 10 जनपथ पर दोनों के बीच करीब एक घंटे तक विचार-विमर्श हुआ। बताया जा रहा है कि इसमें प्रत्याशियों की सूची के अलावा खुद गहलोत के भी चुनाव लड़ने की इच्छा पर चर्चा हुई। गहलोत खुद चुनाव लड़ने पर अड़े हुए हैं। इस मामले में उन्हें मनाने की जिम्मेदारी सोनिया गांधी के विश्वासपात्र अहमद पटेल को दी गई है। इस मुद्दे के अलावा गहलोत व प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट के अपनी-अपनी पसंद के उम्मीदवारों की सूची को वरीयता दिए जाने की जिद इसके जारी होने में हो रही देरी का कारण बन रही है। विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी की भी अपनी अलग पसंद है।
बीजेपी जारी कर चुकी है पहली सूची
उल्लेखनीय है कि बीजेपी ने रविवार देर रात 131 प्रत्याशियों की सूची जारी कर दी थी। बीजेपी की इस पहली सूची में 12 महिलाएं, 32 युवा, 17 अनुसूचित जाति व 19 अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवारों को टिकट दिया गया। इसमें 85 वर्तमान विधायक शामिल हैं। वहीं इसमें 25 नए नाम हैं।