जम्मू-कश्मीर: मसूद अजहर का भतीजा सेना से मुठभेड़ में मारा गया

0
54

न्यूज चक्र @ श्रीनगर/सेन्ट्रल डेस्क
कश्मीर में एक बार फिर अपनी जड़ें जमाने का प्रयास कर रहे आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद को करारा झटका देते हुए सुरक्षाबलों ने उसके सरगना मसूद अजहर के भतीजे महमूद तल्हा रशीद समेत तीन आतंकियों को मार गिराया।
अन्य दो आतंकियों में जैश का डिवीजनल कमांडर महमूद भाई और एक स्थानीय आतंकी वसीम अहमद शामिल है। आतंकियों के खिलाफ अभियान में सियाना, बुलंदशहर (उत्तर प्रदेश) के सैन्यकर्मी ब्रह्मापाल सिंह ने भी शहादत पाई। वहीं दो जवान घायल हो गए। सोमवार रात पुलवामा में मारे गए मसूद अजहर के भतीजे और अन्य दो आतंकियों के पास से सुरक्षाबलों ने अमेरिकी फौज द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली एम 4 कारबाइन के अलावा एक एके-47 राइफल, एक पिस्तोल व कुछ अन्य हथियार बरामद किए हैं। एम 4 कारबाइन के साथ तीन दिन पहले एक स्थानीय आतंकी का फोटो भी इंटरनेट पर वायरल हुआ था। तीन दिन पहले राजपोरा थाने के बाहर पुलिस नाके पर हमले में यही तीनों आतंकी शामिल थे और उन्होंने हमले में एम 4 कारबाइन का भी इस्तेमाल किया था। इस हमले में पुलिस कांस्टेबल अब्दुल सलाम शहीद हो गए थे।
बताया गया है कि सोमवार को जैश के दो विदेशी आतंकियों के साथ मारा गया आतंकी वसीम अहमद पुलवामा जिले के द्रबगाम का रहने वाला था। वह इसी साल 17 अगस्त को आतंकी बना था।
जैश-ए-मोहम्मद के प्रवक्ता हसन शाह ने भी स्थानीय मीडियाकर्मियों से संपर्क कर पुलवामा में सोमवार रात हुई मुठभेड़ में मसूद अजहर के भतीजे महमूद तल्हा रशीद की मौत की पुष्टि की है। हालांकि मसूद अजहर के भतीजे के कश्मीर में दाखिल होने के समय की सही जानकारी नहीं मिल पाई है, लेकिन सूत्रों के मुताबिक, वह सितंबर में कश्मीर पहुंचा था। गौरतलब है कि तल्हा रशीद से पहले लश्कर कमांडर जकीउर रहमान लखवी का एक बेटा और दो भतीजे मारे गए थे। मसूद अजहर के परिवार के किसी सदस्य के कश्मीर में मारे जाने का यह पहला मामला है।
कौन है मसूद अजहर
विमान अपहरण की घटना के बाद 2000 की शुरुआत में मसूद अजहर को भारत सरकार ने रिहा किया था। रिहाई के बाद ही उसने जैश-ए-मोहम्मद का गठन किया था।
फिलहाल केंद्र सरकार उसे वैश्विक आतंकी सूचीबद्घ कराने का प्रयास कर रही है, लेकिन चीन और पाकिस्तान इस राह में रुकावट बन रहे हैं। मसूद अजहर को फरवरी, 1994 के दौरान अनंतनाग में सुरक्षाबलों ने पकड़ा था। उस समय वह कश्मीर में हरकत उल जेहादे इस्लामी, हरकत उल मुजाहिदीन और हरकत उल अंसार के बीच लगातार गहराते मतभेदों को दूर कर उनके एकीकरण के लिए बांग्लादेश के रास्ते कश्मीर आया था। मसूद को छुड़ाने के लिए ही पाकिस्तानी आतंकियों ने दिसंबर, 1999 में काठमंडू से दिल्ली आने वाली एयर इंडिया के विमान का अपहरण किया था।