बून्दी जिले का माटूंदा गांव देशभर के लिए बना मिसाल

अन्तरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर आयोजित संगोष्ठी में सरपंच महेन्द्र कुमार शर्मा ने बताया कि गांव में बालकों के मुकाबले बालिकाओं की पैदाइश अधिक

0
446

न्यूज चक्र @ बून्दी
अन्तरराष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर गुरुवार को माटूंदा ग्राम पंचायत स्थित राजकीय कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय में संगोष्ठी का आयोजन किया गया । इस अवसर पर ग्राम पंचायत सरपंच महेन्द्र कुमार शर्मा मुख्य‌ अतिथि थे। अध्यक्षता प्रधानाध्यापिका भावना शर्मा ने की। ग्राम विकास अधिकारी रघुबीर सिंह, नरेगा सचिव सविता अरोड़ा व विद्यालय विकास समिति सदस्य घासीलाल वर्मा विशिष्ट अतिथि थे।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि शर्मा ने कहा कि बालिकाएं ही जगत जननी और युग निर्मात्री हैं। उन्होंने बालिका दिवस के नवरात्रों के दौरान आने पर खुशी प्रकट करते हुए कहा कि देश ही नहीं विदेशों तक में मातृ शक्ति का पूजन हो रहा है और हम यहां मातृ शक्ति की महत्ता पर चर्चा करने के लिए एकत्र हुए हैं। सरपंच शर्मा ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने बालिकाओं के कल्याण व संरक्षण के लिए ऐतिहासिक योजनाएं लागू की हैं। ऐसी ही योजनाओं का परिणाम है कि माटूंदा ग्राम पंचायत क्षेत्र में पिछले तीन वर्षों से बालकों के मुकाबले बालिकाएं अधिक पैदा हो रही हैं। इस प्रकार यह ग्राम पंचायत राज्य ही नहीं देशभर के लिए मिसाल है। प्रधानाध्यापिका भावना शर्मा ने विद्यालय में बालिकाओं को मिल रही सुविधाओं की जानकारी दी। विशिष्ट अतिथि रघुबीर सिंह, घासीलाल वर्मा, सविता अरोड़ा आदि ने भी सम्बोधित करते जिले व राज्य सहित देशभर में बालिकाओं की स्थिति में आ रहे बदलावों को सुखद संकेत बताया। संगोष्ठी की आयोजक ‘सेव द चिल्ड्रन’ संस्था की प्रभारी निवेदिता सक्सेना ने संचालन किया। उन्होंने बताया कि उनकी संस्था 19 देशों में कार्यरत है। उन्होंने संस्था की गतिविधियों की जानकारी भी दी।
इस अवसर पर अध्यापिका अनिता मीणा व सीमा यादव, वार्डन मंजू मीणा सहित विद्यालय की छात्राएं मौजूद थीं।‌ कार्यक्रम के दौरान बीच-बीच में बालिकाओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए।