वतन की आंखों के तारे थे अटलजी: आरके सिन्हा

कोटा में हिन्दुस्थान समाचार बहुभाषी न्यूज समूह के ‘अटल काव्यांजलि’ समारोह में उमडे़ शहरवासी, समूह के संस्थापक एवं राज्यसभा सदस्य आरके सिन्हा का संदेश पढ़कर सुनाया गया

0
112

न्यूज चक्र @ कोटा
भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को समर्पित ‘अटल काव्यांजलि’ समारोह में बड़ी संख्या में उमड़े शहरवासियों को ख्यातनाम कवियों की रचनाओं ने खूब लुभाया। इसका आयोजन गत दिनों हिन्दुस्थान समाचार बहुभाषी न्यूज एजेंसी एवं नीरज स्मृति न्यास की ओर से झालावाड़ रोड स्थित होटल कंट्री इन के सभागार में किया गया। देर रात तक चले अटल कवि सम्मेलन में देशभक्ति व ज्वलंत मुद्दों पर अपनी ओजस्वी कविताएं सुनाईं।
इस अवसर पर कार्यक्रम की आयोजक न्यूज एजेंसी समूह के संस्थापक एवं राज्यसभा सांसद आरके सिन्हा का संदेश पढ़ कर सुनाया गया। इसमें उन्होंने कहा कि उन्हें 53 वर्ष तक अटलजी का सानिध्य मिला। वे वतन की आंखों के तारे थे। प्रख्यात कवि गोपालदास नीरज के अवसान के बाद जब अटलजी का महाप्रयाण हुआ तो काव्य जगत में शून्य छा गया। हमने देश में अटल काव्याजंलि समारोह से नवोदित कवियों को अटलजी की काव्य यात्रा से जोड़ने का अभियान शुरू किया है। कोटा में इस काव्य यात्रा का 9 वां पड़ाव रहा।
भारत को परमाणु शक्ति बनाया
काव्यांजलि के मुख्य अतिथि राजस्थान तकनीकी विश्वाविद्यालय के कुलपति डाॅ. एनपी कौशिक ने अपने सम्बोधन में कहा कि भारत रत्न अटलजी काव्य हृदय रहे। उन्होंने राजनीति से ऊपर उठकर जीवन जिया। उन्होंने ‘हार नहीं मानूंगा, रार नहीं ठानूंगा..’ जैसी पंक्तियों को चरितार्थ करते हुए पोकरण में 3 परमाणु परीक्षण कर भारत को परमाणु शक्ति के रूप में उभारा। पूर्व राष्ट्रपति डाॅ. एपीजे अब्दुल कलाम का साथ उन्हें मिला। अटलजी मानते थे कि गांव जब शहर से जुड़ेंगे तो देश का सही विकास होगा, इसी सोच से प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना व स्वर्ण चतुर्भुज योजना पर अमल किया।
समारोह की मुख्य अतिथि कोटा विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. नीलिमा सिंह ने कहा, मुझे गर्व है कि जहां अटलजी पैदा हुए, मैं उसी भूमि से हूं। एक दीक्षांत समारोह में उनसे मिलना हुआ था। उनमें हमेशा सहज
भाव दिखा। भारत को मजबूत बनाने के लिए उनमें एक दृष्टि थी। उनकी कविता ‘ए जंग का एेलान..’ सीमाओं पर जूझते हुए वीर सैनिकों में जयघोष करती है।
हिन्दुस्थान समाचार बहुभाषी न्यूज समूह के सीईओ समीर कुमार ने कहा, अटलजी ने ‘मैं’ शब्द को ‘हम’ में तब्दील किया। ‘अटल काव्यांजलि’ का उद्देश्य युवाओं व आम नागरिकों को उनके आदर्शाे से रूबरू कराना है। उन्होंने बताया कि हिन्दुस्थान समाचार देश में एकमात्र बहुभाषी न्यूज एजेंसी है, जो हिंदी, अंग्रेजी सहित 14 भाषाओं में समाचार व विश्लेषण देती है। यह समूह सत्य, संवाद व सेवा के मूलमंत्र को चरितार्थ कर रहा है।