भाजपा शासन में ही किसानों का हित: हाड़ा

भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा का जिला सम्मेलन आयोजित

0
247

न्यूज चक्र @ बून्दी
भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा का जिला सम्मेलन बुधवार को माटूंदा गांव में आयोजित किया गया। इसमें सभी वक्ताओं ने उदाहरण सहित केन्द्र व राज्य की पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकारों को पूरी तरह किसान विरोधी करार दिया। साथ ही कहा कि किसानों का हित केवल भाजपा सरकारें ही कर सकती हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने अपनी योजनाओं से यह साबित भी कर दिया है। इस प्रक्रिया को आगे और प्रभावी बनाने के लिए मतदाताओं से चुनावों में दुबारा भाजपा को ही चुनने की अपील की। कांग्रेस को देश के लिए हर प्रकार से घातक बताया।
जिला सम्मेलन के मुख्य अतिथि भाजपा जिलाध्यक्ष महिपत सिंह हाड़ा ने कहा कि 60 साल कांग्रेस का राज रहा, इसमें गलत नीतियों के चलते किसान लगातार कर्जदार होता गया। इसके चलते आज यह हालत है कि सौ बीघा जमीन का मालिक भी अपने बच्चों को सरकारी नौकरी ही करवाना चाहता है, वो चाहे चपरासी की नौकरी ही क्यों न हो। पहले हालात उल्टे थे। किसान का पूरा परिवार दिन-रात काम करता, मगर उसके पास पक्का मकान तक नहीं होता था। मोदी व वसुंधरा राजे ने किसानों को अन्नदाता का सम्मान वापस दिलाने के लिए कई योजनाएं लागू की हैं। इनका लाभकारी असर भी दिखने लगा है, मगर पूरा परिणाम आने में समय लगता है। जनता को इसके लिए केन्द्र व राज्य में भाजपा को फिर मौका देना होगा। भाजपा जिलाध्यक्ष हाड़ा ने योजनाओं की जानकारी भी दी। साथ ही सभी किसानों से सहकारी समितियों से अवश्य जुड़ने की अपील करते हुए इसके फायदे भी बताए। भाजपा सरकारों के द्वारा चिकित्सा, शिक्षा, सुरक्षा आदि क्षेत्रों में उठाए गए व भावी कदमों की जानकारी भी दी। बालिका कल्याण की योजना समझाई।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे किसान मोर्चा के जिलाध्यक्ष महेन्द्र कुमार शर्मा ने रासायनिक खेती को भूमि के साथ मानव के लिए भी बहुत घातक बताते हुए किसानों से परम्परागत जैविक खेती ही अपनाने की पुरजोर अपील की। इसके फायदे भी बताए। इसी प्रकार देसी गायों को पालने पर जोर दिया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को हर तरह से किसान चिंतक बताते हुए कहा कि इसलिए ही उन्होंने 24 घंटे चलने वाला किसान चैनल शुरू किया। इसमें केवल खेती-किसानी व ग्रामीण जीवन की ही जानकारी दी जाती है। किसान फोन कर इच्छित जानकारी भी चैनल पर प्राप्त कर सकते हैं। शर्मा ने कहा कि 70 साल तक देश में एक ही परिवार व पार्टी का राज रहा, मगर कोई बड़ा नेता माटूंदा नहीं आया। वहीं मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे यहां आईं और श्राद्ध पक्ष‌ के बावजूद एससी परिवार के यहां खाना खाया। देश, राज्य व किसानों का भला चाहते हो तो वापस नरेन्द्र मोदी और वसुंधरा राजे को ही जिताना होगा।
सम्मेलन को भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य व पूर्व जिलाध्यक्ष शौकीन चंद राठौर, किसान मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य अनिल जैन, जिला महामंत्री शक्ति सिंह आसावत, पूर्व उप जिला प्रमुख कोटा बृजबाला गुप्ता, उपाध्यक्ष भगवान लाड़ला, सम्मेलन संयोजक भीम सिंह गौड़ व सह संयोजक शुभांक दौराश्री, ख्यावदा सरपंच महेन्द्र डोई, प पुलिस जवाबदेही समिति के अध्यक्ष नवल किशोर श्रृंगी आदि ने भी सम्बोधित किया।
कार्यक्रम में भाजपा के जिला मंत्री हरपाल सिंह गब्बर, मोर्चा के जिला मंत्री महावीर प्रसाद शर्मा, रघु सैन, धनराज बैरवा, सरदार जगदीश सिंह, जिला उपाध्यक्ष कृष्ण मुरारी चतुर्वेदी, पप्पू लाल खटाणा, प्रदीप चौधरी, श्याम सुंदर राठौर, दलपत सिंह उलेड़ा, रामसिंह चौधरी, हजारी लाल कुमावत व गुरदेव सिंह, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष सूर्यकांता राणावत, भाजपा कार्यालय प्रभारी रामेश्वर मीणा, मोर्चा के केशवराय पाटन मंडल अध्यक्ष राजेश सैनी, इन्द्रगढ़ मंडल अध्यक्ष अशोक मीणा, कापरेन ग्रामीण अध्यक्ष प्रदीप नंदवाना, हिंडोली मंडल अध्यक्ष अशोक सांवला, खटकड़ मंडल अध्यक्ष जोधराज गुर्जर, तालेड़ा अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी, नैनवां अध्यक्ष रामलाल सैनी, नमाना अध्यक्ष प्रमोद गौतम, दबलाना अध्यक्ष हेमराज, मोर्चा के जिला प्रवक्ता कैलाश गौतम आदि भी मौजूद थे।
आंधी आई, शामियाना उखड़ने लगा
कार्यक्रम के दौरान जैसे ही पूर्व उप जिला प्रमुख कोटा बृजबाला गुप्ता ने सम्बोधन शुरू किया, काफी तेज हवाएं चलने लगीं। इससे शामियाना कई जगह से उखड़ने लगा। यहां पुरुषों के मुकाबले महिलाओं की संख्या काफी अधिक थी। मौसम में अचानक हुए इस बदलाव से इनमें अफरातफरी मच गई। अनहोनी की आशंका से महिलाओं के अलावा कई पुरुष भी बाहर की ओर भागे। वहीं कई किसान शामियाने की बल्लियों को उखड़ने से बचाने के लिए पकड़ कर खड़े हो गए, इनमें सिख किसान अधिक सक्रिय रहे। वहीं मोर्चा जिलाध्यक्ष महेन्द्र बाहर निकली महिलाओं को समझाने में लग गए। एक बार तो ऐसा लगा कि सम्मेलन असफल हो जाएगा। मगर कुछ मिनट में मौसम सामान्य हो गया। कार्यकर्ताओं ने ही शामियाने को व्यवस्थित कर दिया। सब अंदर आ गए व सम्मेलन पहले की तरह जम गया।
विधायक डोगरा के न आने पर रहीं अटकलबाजियां
गौरतलब है कि कार्यक्रम में बून्दी विधायक अशोक डोगरा भी आमंत्रित थे, मगर वे नहीं आए‌। इस कारण को लेकर कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों के बीच विभिन्न अटकलबाजियां चलती रहीं। कुछ का कहना था कि कहीं और बिजी होंगे तो उन्हीं का यह भी मानना था कि जब जिलेभर के कार्यकर्ता व पदाधिकारी यहां मौजूद हैं तो उन्हें भी हर हालत में यहां आना चाहिए था।
जागरूक महिलाएं सम्मानित
इस आयोजन में विभिन्न क्षेत्रों की जागरूक महिलाओं को सम्मानित भी किया गया। इनमें कमलेश मेवाड़ा, अनुसुइया राठौर, ज्योति राठौर, शीला पांचाल, सीमा बसवाल व नीतू प्रजापति शामिल रहीं।