राजस्थान में सबसे लम्बे पुल का लोकार्पण, यातायात शुरू

0
426

न्यूज चक्र @ कोटा/बून्दी
बून्दी के माखीदा से कोटा के गैंता गांव के बीच चम्बल नदी पर 120 करोड़ की लागत से बने राजस्थान के सबसे लम्बे पुल का गांधी जयंती के अवसर पर लोकार्पण कर दिया गया। इसी के साथ मंगलवार को इस पुल पर यातायात शुरू हो गया।
राजस्थान और मध्य प्रदेश के बीच की दूरी 70 किलोमीटर कम करने वाले इस गेता-माखीदा पुल के लोकार्पण समारोह में मंत्री बाबूलाल वर्मा, सांसद ओम बिरला और विधायक विद्या शंकर नंदवाना सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि मौजूद थे। पुल का लोकार्पण समारोह इसके बीच में आयोजित किया गया, ताकि दोनों जिलों के लोग इसमें शामिल हो सकें। कोटा बून्दी जिलों के बीच करीब डेढ़ किलोमीटर लम्बे इस पुल के निर्माण से सवाईमाधोपुर और लाखेरी की तरफ से इटावा, बारां, झालावाड़ तथा मध्यप्रदेश के शिवपुरी जाने के लिए लगभग 70 किमी की दूरी कम हो गई है। वहीं कोटा जिले के गैंता (इटावा) निवासियों के लिए 55 किमी और बारां से वाया कोटा होकर लाखेरी आने वाले यात्रियों के लिए 62 किमी का सफर कम हो गया है। कुछ समय पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने पुल का हवाई सर्वे किया था। इसके बाद उन्होंने जयपुर पहुंचकर पीडब्ल्यूडी मंत्री यूनुस खान को पुल का काम निर्धारित समय सीमा में पूरा करवाने के निर्देश दिए थे।
उल्लेखनीय है कि 120 करोड़ रुपए की लागत से बने करीब 1 हजार 562 मीटर लम्बे इस पुल का काम 3 नवम्बर 2016 को शुरू हुआ था। इस प्रकार करीब 23 माह में यह बन कर तैयार हो गया। यह पुल मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल था।