आधार कार्ड पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले की 10 खास बातें

0
202

न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क/नई दिल्ली
सुप्रीम कोर्ट की पांच न्यायाधीशों की पीठ ने बुधवार को अपने फैसले में आधार को संवैधानिक रूप से वैध करार दिया है, हालांकि आधार के उपयोग और इसकी अनिवार्यता पर कोर्ट ने कुछ शर्तें भी रखी हैं। जस्टिस एके सीकरी ने सीजेआई दीपक मिश्रा, जस्टिस एएम खानविलकर और अपनी ओर से फैसला सुनाते हुए कहा कि आधार देश के हर नागरिक को एक अलग पहचान देता है। उन्होंने टिप्पणी की, “यूनीक होना बेस्ट होने से बेहतर है। ”
सुप्रीम कोर्ट के फैसले में बड़ी बात यह है कि आधार कार्ड को पूरी तरह खत्म कर देने की याचिकाओं के विपरीत इसका अस्तित्व बरकरार रहेगा। हम आपको बता रहें हैं आधार की वैधता और अनिवार्यता पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले की 10 महत्वपूर्ण बातें जो देश के हर नागरिक के लिए जानना जरूरी हैं-
1. सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि आधार कार्ड पर हमला संविधान के खिलाफ है। इसकी डुप्लिकेसी का कोई खतरा नहीं है। आधार सुरक्षित है। जस्टिस सीकरी ने कहा कि एक व्यक्ति यदि दूसरी बार आधार के लिए आवेदन करता है तो बायोमेट्रिक सिस्टम उसे पकड़ लेगा। यह हर नागरिक को एक यूनीक पहचान देता है।
2. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आधार योजना के सत्यापन के लिए पर्याप्त रक्षा प्रणाली है। व्यक्तिगत ऑथेंटिकेशन के बिना किसी के डाटा का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। कोर्ट ने सरकार से कहा कि जितनी जल्दी सम्भव हो आंकड़ों की सुरक्षा के लिए मजबूत तंत्र बनाया जाए।
3. गरीब तबकों को ताकत देता है आधार।‌ अपने फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने यह बड़ी बात कही कि आधार समाज के गरीब तबके के लोगों को ताकत और पहचान देता है। कोर्ट ने कहा कि आधार संवैधानिक रूप से वैध है।
4. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार इनकम टैक्स रिटर्न और पैन लिंकिंग के लिए आधार कार्ड अनिवार्य है.
5. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सरकार की सभी लाभकारी योजनाओं के लिए आधार कार्ड अनिवार्य है।
6. अदालत ने कहा कि आधार के लिए UIDAI ने न्यूनतम जानकारी और बायोमिट्रिक आंकड़े एकत्र किए हैं।
7. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मोबाइल नम्बर, बैंक एकाउंट के लिए आधार कार्ड की आवश्यकता नहीं है।
8. सुप्रीम कोर्ट ने आधार अधिनियम की धारा 57 रद्द कर दी। इसके बाद निजी कम्पनियों के पास किसी भी व्यक्ति से उसका आधार मांगने का अधिकार नहीं रहेगा।
9. सुप्रीम कोर्ट ने फैसले में यह स्पष्ट किया है कि स्कूल में एडमिशन के लिए आधार कार्ड अनिवार्य नहीं है। आधार नहीं होने की स्थिति में स्कूल बच्चे को एडमिशन देने से इनकार नहीं कर सकते हैं।
10. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मुताबिक यूजीसी, नीट और सीबीएसई परीक्षाओं के लिए आधार अनिवार्य नहीं है। बॉयोमीट्रिक डेटा अदालत की अनुमति के बिना किसी भी एजेंसी के साथ साझा नहीं किया जाएगा।