हाड़ौती में 10 सितम्बर से 750 निजी बसों का चक्काजाम

0
308

न्यूज चक्र @ कोटा
बस मालिक संघ, कोटा सम्भाग की ओर से अपनी पांच सूत्रीय मांगों को लेकर 10 सितम्बर से कोटा सहित हाड़ोतीभर में चक्काजाम की घोषणा की गई है। संघ के सम्भागीय अध्यक्ष सत्यनारायण साहू ने गुरुवार को पत्रकार वार्ता में यह जानकारी दी।
साहू ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि पिछले एक वर्ष के दौरान डीजल की दरों में अप्रत्याशित वृद्धि हुई है। इसके बावजूद बस किराये में वृद्धि नही् की गई। इससे बस मालिकों को आर्थिक समस्या का सामना करना पड़ रहा है। ऐसी स्थिति में संघ की सरकार से पांच मांगें हैं। इनमें किराये में वृद्धि, कोटा सहित हाड़ौतीभर में सुसज्जित पार्किंग स्थल, परिवहन विभाग द्वारा मोटर व्हीकल एक्ट की धारा 86 के तहत बस मालिकों को जारी किए गए नोटिसों को वापस लेना, एसीबी द्वारा पूर्व में की गई कार्रवाई को ड्रॉप करना व उप नगरीय परमिट को समाप्त नहीं करने की मांग शामिल है। इन मांगों को लेकर ही संघ यह चक्काजाम आंदोलन करने जा रहा है। साहू ने बताया कि बस मालिक संघ, कोटा सम्भाग की ओर से इस सम्बन्ध में पिछले दिनों जिला कलक्टर व हाड़ौती सम्भाग के सभी जिला परिवहन अधिकारियों को राज्य सरकार व परिवहन विभाग के नाम ज्ञापन दिए गए थे। इसके बावजूद राज्य सरकार ने इस पर ध्यान नहीं दिया। ऐसे में मजबूरन यह निर्णय लेना पड़ा है।
संघ के महासचिव विजेन्द्र गुप्ता ने बताया कि चक्काजाम में कोटा सहित हाड़ौती सम्भाग के बून्दी, बारां व झालावाड़ जिलों में भी निजी बसों का संचालन अनिश्चित कालीन बंद रहेगा। हाड़ौती में करीब 750 निजी बसों का विभिन्न मार्गों पर संचालन हो रहा है। गुप्ता ने कहा कि इस चक्काजाम की समस्त जिम्मेदारी राज्य सरकार की होगी। इस पर भी उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दिया गया तो आंदोलन को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए 12 सितम्बर से निजी स्कूलों व फैक्ट्रियों में लगी सभी प्रकार की बसों का संचालन भी बंद कर दिया जाएगा। इसके बावजूद भी राज्य सरकार ने सुनवाई नहीं की तो कोटा, बारां, बून्दी व झालावाड़ शहर के प्रमुख मार्गों पर बसों को खड़ी कर उन्हे अवरुद्ध किया जाएगा।
इस चक्काजाम में टाटा मैजिक, जीप, क्रूजर व मिनी प्राइवेट सिटी बसों को भी शामिल किया जाएगा। बस संघ ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन व ट्रक यूनियन से भी चक्काजाम के लिए समर्थन मांग ट्रकों के संचालन को भी बंद करवाएगा। गुप्ता ने कहा कि निजी बसों में निम्न व मध्यम वर्ग के लोग सफर करते हैं। किराये की बढ़ोतरी से इनके ऊपर ही भारी आर्थिक भार पड़ेगा, मगर इसमें उनकी मजबूरी है। केन्द्र व राज्य सरकार मात्र पांच सरकारी व निजी पेट्रोल कम्पनियों को लाभ देने के लिए हम जैसे गरीब लोगों का खून चूस रही है।
संघ के संयोजक मोहम्मद अकिल पठान ने बताया कि चक्काजाम जैसे आंदोलन को गति देने के लिए अध्यक्ष सत्यनारायण साहू की अध्यक्षता में 15 सदस्यीय टीम का गठन किया गया है। इसमें बून्दी से बाबू खिलची, इकराम खान व बुद्धिप्रकाश, बारां से सिराज खान व दिनेश शर्मा, छीपाबड़ौद से सोनू, झालावाड़ से विक्रम सिंह, जितेन्द्र हाड़ा व कमल शर्मा, कोटा से बाबू भाई व पुरुषोत्तम शर्मा को शामिल किया गया है। पत्रकार वार्ता में संघ के उपाध्यक्ष अशोक चांदना, परवेज खान, सुनील शर्मा आदि भी मौजूद थे।