काले झंडों और पत्थरबाजी में दब गई यह खबर, मुस्लिम समाज ने वसुंधरा को सोने का तिमणिया पहना कर किया स्वागत

0
780

न्यूज चक्र @ जयपुर/जोधपुर
जोधपुर जिले में फलोदी के कलरा शरीफ गांव में शुक्रवार को मुस्लिम समाज व सरपंच हमीद खेताणी की ओर से गौरव यात्रा के स्वागत समारोह में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को 8 तोला सोने का तिमणिया (विशेष पेंडल वाला हार) पहना कर स्वागत किया। वसुंधरा ने इसे केरल के बाढ़ पीड़ितों की सहायतार्थ देने की घोषणा की। यह कार्यक्रम मुस्लिम समाज की ओर से आयोजित किया गया था।
गौरव यात्रा जैसे ही कलरा शरीफ पहुंची मुस्लिम समुदाय के लोक कलाकार लंगों ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का जोरदार स्वागत किया। इसी के साथ आगामी विधानसभा चुनाव में जीत निश्चित बताते हुए जोशो-खरोश से स्वागतम् गीत गाए। इसके बाद मुस्लिम समाज की ओर से सरपंच हमीद खेताणी ने वसुंधरा को 8 तोला सोने का तिमणिया पहनाया। साथ ही मुस्लिम समाज ‌ने उन्हें विश्वास दिलाया कि हम हर मौके पर आपके साथ हैं।
विश्वास पर खरी उतरूंगी
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री वसुंधरा ने कहा कि 36 कौम मेरा परिवार है। इसके विकास में कभी भी कोई कमी नहीं रखूंगी। हमेशा आपके विश्वास पर खरी उतरूंगी‌। इसके लिए बस आपके आशीर्वाद की जरूरत है। हम सब को मिलकर राजस्थान के विकास को आगे बढ़ाना है।
कांग्रेस को वोट देते-देते मुसलमानों के अंगूठे घिसे
इस मौके पर राजस्थान उर्दू अकादमी के चेयरमैन राज्य मंत्री अशरफ अली खिलजी ने कहा कि कांग्रेस को वोट देते-देते मुसलमानों के अंगूठे घिस गए। हमारी सारी पीढ़ियां कांग्रेस को वोट देती रहीं। कांग्रेस ने इन वोटों के बदले में हमें सिर्फ जाहिलियत, बेरोजगारी, पिछड़ापन और गरीबी दी। खिलजी ने आगे कहा कांग्रेस नहीं चाहती कि मुसलमान पढ़-लिख कर अपना हक जानें। कांग्रेस जानती है मुसलमान पढ़- लिखकर काबिल हो गया तो अपना हक जान जाएगा। उस दिन उसकी राजनीति को ताले लग जाएंगे। उन्होंने कहा मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे 36 कौम को सीने से लगाकर राजस्थान का विकास करना चाहती हैं।
कार्यक्रम में केंद्रीय कृषि मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, विधायक पब्बाराम विश्नोई, पूर्व सांसद जसवंत सिंह बिश्नोई, भाजपा नेता सिकंदर घोसी, सिद्दीक खान (देदूसरी), मोहम्मद अली खिलजी (फलोदी) सहित कई सरपंच व मुस्लिम समाज के मौजिज लोग मौजूद थे।
गौरतलब है कि गौरव यात्रा के दौरान ओसियां में हुई मुख्यमंत्री वसुंधरा की सभा में भारी भीड़ थी। इसमें जाट नेता एवं खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल के समर्थक काले झंडे लहराते हुए घुस आए। ये मुख्यमंत्री के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। पुलिस ने लाठियां फटकार कर इन्हें खदेड़ा। इसी के साथ निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार राजपूत समाज की बैठक में नहीं पहुंचने से नाराज समाज के लोगों ने भी टायर जला कर स्टेट हाईवे जाम कर दिया। पुलिस ने इन्हें भी खदेड़ा। इसके बाद बावड़ी तहसील चौराहे पर भी हनुमान बेनीवाल के समर्थकों ने फिर मुख्यमंत्री के काफिले का रास्ता जाम कर हंगामा किया।
पीपाड़ के मंच से तो मुख्यमंत्री वसुंधरा जब सम्बोधित कर रहीं थीं, गहलोत समर्थकों ने नारेबाजी करनी शुरू कर दी। भीड़ में से लोगों ने पत्थर उछाले और गाड़ियों के कांच फोड़ दिए गए। इन खबरों का दबाव होने से मीडिया मुख्यमंत्री के स्वागत से जुड़ी हुई कई प्रमुख ख़बरें हाई लाइट नहीं कर सका।