टोंक के मालपुरा में दूसरे दिन तनाव बढ़ा, हालात बेकाबू होने के बाद लगाया कर्फ्यू

0
216

न्यूज चक्र @ टोंक/ जयपुर
राजस्थान के टोंक जिले के मालपुरा कस्बे में गुरुवार शाम कावड़ यात्रा पर हुए हमले के मामले ने दूसरे दिन शुक्रवार को और बड़ा रूप ले लिया। तनाव बढ़ने से हालात और बिगड़ गए। धारा 144 के बीच निकाली गई तिरंगा यात्रा के दौरान दोनों पक्ष फिर भिड़ गए। इस दौरान हुए पथराव के बाद हालात बेकाबू होते देख कस्बे में कर्फ्यू लगा दिया गया। कस्बे के चप्पे-चप्पे पर पुलिस जाब्ता तैनात है।
उल्लेखनीय है कि गुरुवार शाम कावड़ लेकर आ रहे कावड़ियों पर कुछ युवकों ने हमला कर दिया था। इससे 15 युवकों के घायल हो जाने से कस्बे में भारी तनाव हो गया। बाद में दोनों पक्ष आमने- सामने हो गए। इस दौरान एक-दो जगह आगजनी की घटनाएं भी हुईं। कुछ गाड़ियों के शीशे तोड़ दिए गए। हालात को देखते हुए प्रशासन ने लाठीचार्ज कर भीड़ को खदेड़ा और कस्बे में धारा 144 लगा दी थी। साथ ही इंटरनेट सुविधा बंद करवा दी। शुक्रवार को भाजपा की ओर से कस्बे में तिरंगा यात्रा निकाला जाना प्रस्तावित था। कस्बे में धारा 144 को देखते हुए पहले यह यात्रा स्थगित कर दी गई, लेकिन बाद में भाजपा व हिन्दू संगठनों के लोग यात्रा निकालने को लेकर अड़ गए।
नीलगर मोहल्ले में हुए हालात बेकाबू
बाद में जैसे-तैसे सांसद सुखबीर सिंह जौनापुरिया व मालपुरा विधायक कन्हैयालाल चौधरी के नेतृत्व में तिरंगा यात्रा शुरू हुई। यह यात्रा जैसे ही मुस्लिम बहुल नीलगर मोहल्ले में पहुंची तो इस पर पथराव होने लगा। अचानक हुए इस पथराव से हालात बेकाबू हो गए। इस पर पुलिस ने भीड़ को नियंत्रित करने के लिए हल्का बल प्रयोग किया। बाद में अांसू गैस के गोले भी छोड़े। इस दौरान जिला कलक्टर आरसी ढेनवाल व पुलिस अधीक्षक योगेश दाधीच भी तनावग्रस्त क्षेत्र में मोर्चा सम्भाले रहे। बाद में हालात बेकाबू होता देख जिला कलक्टर ने मालपुरा कस्बे में कर्फ्यू लगा दिया।
लोगों से घरों में रहने की अपील
मालपुरा कस्बे के लोगों से घरों मे रहने की अपील की जा रही है। पुलिस अधीक्षक योगेश दाधीच ने लोगों से अफवाहों पर ध्यान नहीं देने की अपील की है। इधर इस पूरी घटना के लिए सांसद जौनापुरिया ने जिला प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया है।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गोरधन सोकरिया ने बताया कि सुबह कुछ लोग अलग-अलग टोलियां बनाकर बाजार में निकल रहे थे कि उसी दौरान पथराव की घटना के बाद कुछ उत्तेजित लोगों ने एक दुकान में आग लगा दी। पुलिस ने उत्तेजित लोगों को खदेड़ने के लिए हल्का बल प्रयोग भी किया।
थानाधिकारी नवनीत ने बताया कि आज सुबह कुछ लोग एक यात्रा मस्जिद के पास से निकलना चाहते थे, लेकिन हमने दोनों पक्षों में विवाद की आशंका के चलते रैली का मार्ग परिवर्तित किया। यात्रा में शामिल कुछ लोगों ने इसका विरोध किया, जिससे तनाव की स्थिति उत्पन्न हुई। पुलिस को भीड़ तितर-बितर करने के लिए बल प्रयोग करना पड़ा। उन्होंने बताया कि इसके तुरंत बाद पथराव शुरू हो गया और तीन दुकानों को आग के हवाले कर दिया गया। पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े और कर्फ्यू लगा दिया। मालपुरा विधायक कन्हैया लाल ने बताया कि तिरंगा यात्रा के दौरान अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने हमारे लोगों पर पथराव किया, जिससे तनाव उत्पन्न हो गया। पुलिस ने बताया कि एक समुदाय के तीन लोगों सहित 17 लोगों को हिरासत में लिया गया है। कस्बे में स्थित तनावपूर्ण लेकिन नियंत्रण में है।