पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की हालत बेहद नाजुक

0
240
अटल बिहारी वाजपेयी (फाइल फोटो)

न्यूज चक्र @ नई दिल्ली
यूरिन इन्फेक्शन के चलते 11 जून को एम्स में भर्ती कराए गए पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की तबीयत बुधवार रात से लगातार बेहद नाजुक बनी हुई है। हालत में सुधार होने की बजाय ये और बिगड़ती जा रही है। एम्स के मेडिकल बुलेटिन में यह जानकारी दी गई है।
पीएम नरेन्द्र मोदी वाजपेयी का हाल जानने के लिए बुधवार शाम एम्स पहुंचे थे। इसके बाद गुरुवार सुबह उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू भी अस्पताल पहुंचे। मोदी से पहले केन्द्रीय मंत्री स्मृति इरानी भी वाजपयी से मिलने एम्स पहुंचीं थीं। उल्लेखनीय है कि सभी राजनैतिक दलों में सम्माननीय, दार्शनिक प्रवृति के दिग्गज राजनेता रहे वाजपेयी 9 साल से बीमार चल रहे हैं।
लाल किले पर भाषण में मोदी ने किया था याद
72 वें स्वतंत्रता दिवस पर बुधवार को लाल किले से दिए अपने भाषण में पीएम मोदी ने अटल बिहारी वाजपेयी को याद किया था। उन्होंने कहा- कश्मीर के मुद्दे का हल निकालते वक्त हम अटलजी के नजरिये पर चलेंगे, जो इंसानियत, कश्मीरियत और जम्हूरियत पर आधारित था।
2009 से तबीयत बिगड़नी शुरू हुई
2009 में वाजपेयी को सांस लेने में दिक्कत के बाद कई दिन वेंटिलेटर पर रखा गया था। हालांकि, बाद में वह ठीक हो गए और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। इसके बाद कहा गया कि वाजपेयी लकवे के शिकार हैं। इस वजह से वह किसी से बोलते नहीं थे। बाद में उन्हें स्मृति लोप हो गया। उन्होंने लोगों को पहचानना भी बंद कर दिया। अभी वाजपेयी को लाइक सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है। अस्पताल का कहना है कि उनकी तबीयत लगातार बिगड़ती जा रही है।