आईएएस को भ्रष्टाचार के मामले में 3 साल की सजा

0
75

न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क/भुवनेश्वर
ओडिशा ग्रामीण गृह निर्माण निगम (ओआरएचडीसी) भ्रष्टाचार मामले में तत्कालीन निदेशक तथा आईएएस अधिकारी विनोद कुमार ने शुक्रवार को विजिलेंस कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया। इसके बाद कोर्ट ने उन्हें तीन साल के कारावास की सजा सुनाई। फैसले के तुरंत बाद विनोद कुमार को न्यायिक अभिरक्षा में लेकर जेल भेज दिया गया।
उल्लेखनीय है कि आईएस विनोद कुमार के खिलाफ भुवनेश्वर की विशेष विजिलेंस अदालत ने गैरजमानती वारंट जारी किया था। उस पर ओडिशा हाईकोर्ट ने 10 अगस्त तक राहत दी थी। इसकी अवधि शुक्रवार को खत्म हो जाने के बाद उन्होंने विजिलेंस अदालत के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया।
यह है मामला
ओआरएचडीसी भ्रष्टाचार मामले में भुवनेश्वर की विशेष विजिलेंस अदालत ने ओआरएचडीसी के संचालन निदेशक आईएएस विनोद कुमार, निदेशक पूर्णचंद्र दास, एकाउंटेंट प्रदीप राउत व चितरंजन मलिक के नाम गैरजमानती वारंट जारी किया था। इसके बाद विनोद कुमार ने हाईकोर्ट में अपने खिलाफ जारी गैर जमानती वारंट रद्द करने की गुहार लगाई थी। हाईकोर्ट ने दो चरण में 10 अगस्त (शुक्रवार) तक विनोद कुमार के खिलाफ सख्त कार्रवाई पर रोक लगा दी थी।