चारभुजानाथ जी में लिया विजय का संकल्प, भाजपा की राजस्थान गौरव यात्रा शुरूड

0
148

न्यूज चक्र @ उदयपुर
राज्य में साढ़े चार साल के शासन की अपनी उपलब्धियों के दम पर शनिवार से भाजपा की चालीस दिवसीय राजस्थान गौरव यात्रा का मेवाड़ के प्रमुख धार्मिक स्थल चारभुजानाथ जी से शानदार आगाज हुआ। सीएम वसुंधरा राजे ने इस अवसर पर राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में जनता के सामने अपना रिपोर्ट कार्ड रखा। वहीं, शाह ने भी कार्यक्रम में कांग्रेस को विभिन्न मुद्दों पर चुनौती देते हुए लोगों को विजय संकल्प दिलाकर इस यात्रा को रवाना किया।
राजसमंद के चारभुजानाथ जी में यात्रा को हरी झंडी दिखाने के बाद शाह ने कांकारोली के जेके स्टेडियम में आयोजित पहली सभा में कार्यकर्ताओं का उत्साहवर्धन करते हुए एससी/एसटी एक्ट, ओबीसी, एनआरसी और समर्थन मूल्य के मामले पर कांग्रेस पर जमकर प्रहार किए। इस दौरान ‘आओ साथ चलें…’ गीत के बीच शाह, राजे और प्रदेशाध्यक्ष मदनलाल सैनी ने यात्रा के रथ पर चढ़कर लोगों का अभिवादन किया।
राजे के नेतृत्व में राजस्थान बन रहा विकसित राज्य: शाह
यात्रा के शुभारम्भ समारोह में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने केन्द्र व राज्य सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं को गिनाते हुए कहा कि वसुंधरा राजे के नेतृत्व में राजस्थान विकसित राज्य बन रहा है। करोड़ों भाजपा कार्यकर्ताओं की ओर से वसुन्धरा राजे को बधाई देने आया हूं। केन्द्र में मोदी और यहां वसुंधरा राजे की जोड़ी को बनाए रखना है। शाह ने कहा कि राजे ने काम का रिपोर्ट कार्ड जनता के सामने रखा है। उन्होंने कहा कांग्रेस 40 सवाल पूछने की बात कह रही है, जबकि देश की जनता कांग्रेस से चार पीढ़ी का हिसाब मांग रही है।
फिर विजय पताका फहराएंगे: वसुंधरा
इससे पहले सीएम राजे ने राणा कुम्भा, भामाशाह और पन्नाधाय को याद करते हुए सरकार के साढ़े चार साल के अपने कार्यकाल का रिपोर्ट कार्ड जनता के सामने रखा। राजे ने कहा कि पांच साल पहले उन्होंने यहीं से यात्रा शुरू की थी। भाजपा एक बार फिर विजय का झंडा फहराएगी। चारभुजाजी का पूरा आशीर्वाद फिर मिलेगा। विकास की आंधी लाएंगे और राजस्थान को देश का सिरमौर बनाएंगे। राजे ने सरकार बदलने की परम्परा को बंद करने की पैरवी करते हुए कहा कि इससे विकास अवरुद्ध हो जाता है। सभा को प्रदेशाध्यक्ष सैनी ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर बड़ी संख्या में राज्यभर से आए भाजपा कार्यकर्ता व आमजन मौजूद थे। पार्टी ने इनकी संख्या तकरीबन 2 लाख तक होने का दावा किया है तो कांग्रेस के नेता इसे 50 हजार के करीब ही बता रहे हैं। स्वतंत्र आंकलन करीब सवा लाख का किया जा रहा है।