झालावाड़: शहीद मुकुट बिहारी मीणा को अंतिम विदाई देने उमड़े लोग,सबकी आंखें थीं नम

0
203

न्यूज चक्र @ झालावाड़
देश की आन, बान और शान के लिए अपनी जान न्यौछावर करने वाले हाड़ौती के लाडले शहीद मुकुट बिहारी मीणा को शनिवार को हजारों लोगों ने नम आंखों से उनके पैतृक गांव खानपुर के लडानिया में पूरे सैन्य सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी। हाड़ौती का यह लाल तीन दिन पहले जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हो गया था। शहीद  के अंतिम संस्कार में बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधियों, पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों सहित हजारों लोग शामिल हुए।
शहीद होने के तीन दिन बाद जब शनिवार को पैरा कमांडो मुकुट बिहारी मीणा की पार्थिव देह पैतृक गांव लाई गई तो वहां मौजूद हजारों लोगों की आंखें नम हो गई। शहीद की तीन महीने की बेटी के साथ पत्नी और परिवार के गम को देखकर  हर किसी की आंखों से आंसू बह निकले। इससे पहले कोटा से खानपुर तक कई जगहों पर जांबाज के अंतिम दर्शन के लिए लोग बेसब्री से इंतजार करते रहे। जहां से भी शहीद की पार्थिव देह गुजरी लोगों ने फूल बरसाकर अपने वीर लाडले को श्रद्धाजंलि दी।
सभी तरह धार्मिक प्रक्रियाएं पूरी करने के बाद सैन्य सम्मान के साथ जांबाज मुकुट बिहारी की अंतिम यात्रा जब मुक्तिधाम की तरफ की बढ़ी तो पूरा गांव भारत माता के जयकारों से गूंज उठा। इस दौरान लोगों में आतंकियों को पनाह देने वाले पाकिस्तान के खिलाफ जबरदस्त गुस्सा नजर आया।
सपना देखा, उसे जीया और पूरा किया
परिजनों और शहीद के दोस्तों के अनुसार मुकुट बिहारी का सपना था कि वह अपनी मातृभूमि की रक्षा करते हुए अपनी जान को कुर्बान कर दे। उसने अपने सपने को न केवल जीया, बल्कि उसे पूरा भी कर दिखाया। मुख्यमंत्री की ओर से मंत्री बाबूलाल वर्मा ने शहीद की पार्थिव देह पर पुष्प अर्पितचक्र किये और राज्य सरकार की ओर से हरसम्भव मदद का भरोसा दिलाया।