राजस्थान में रिकॉर्ड लहसुन खरीद, किसानों को मिले 300 करोड़ रुपए

वरीयता में बदलाव की जांच के लिए कमेटी गठित

0
335

न्यूज चक्र @ कोटा/जयपुर
राजस्थान में पहली बार लहसुन की रिकॉर्ड 90 हजार मै.टन से भी अधिक खरीद की गई है। इसके लिए 25 हजार से अधिक किसानों को 300 करोड़ रुपए भुगतान मिला है। सहकारिता मंत्री अजय सिंह किलक ने मंगलवार को यह जानकारी दी।
सहकारिता मंत्री ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकार के समय वर्ष 2012-13 में मात्र 3711 मै.टन लहसुन की खरीद हुई थी, जिसका मूल्य 6.30 करोड़ रूपए था। उन्होंने बताया कि वर्तमान सरकार ने पूर्ववर्ती सरकार की तुलना में लहसुन की 30 गुना अधिक खरीद की है। उन्होंने बताया कि किसानों द्वारा पंजीकरण के समय लहसुन की गिरदावरी को अपलोड करने की तिथि के आधार पर वरीयता क्रम निर्धारित करते हुए खरीद की गई। कुछ खरीद केन्द्रों पर लहसुन खरीद में वरीयता क्रम में उल्लंघन की शिकायत प्राप्त होने पर जांच के लिए तीन सदस्यों की उच्च स्तरीय कमेटी का गठन किया गया है। यह कमेटी सात दिन में अपनी रिपोर्ट प्रबन्ध संचालक राजफैड को प्रस्तुत करेगी।
मंत्री किलक ने बताया कि कमेटी किसानों द्वारा पंजीकरण के समय गिरदावरी प्रस्तुत करने व लहसुन विक्रय के समय प्रस्तुत गिरदावरी की जांच करेगी। गिरदावरी में किसान का नाम, बुआई रकबा एवं बोई गई जिन्स के अनुसार किस जिन्स की खरीद की गई है की भी जंच की जाएगी।सहकारिता मंत्री ने बताया कि किसान से लहसुन खरीद के समय प्राप्त किये गए दस्तावेजों की जांच व किसानों को भुगतान की स्थिति, राजफैड आईटी शाखा द्वारा तिथि आवंटन व केन्द्र परिवर्तन की कार्य प्रणाली को भी कमेटी जांचेगी।
उन्होंने बताया कि कमेटी में महाप्रबन्धक(वाणिज्य) राजफैड राजीव लोचन, अतिरिक्त रजिस्ट्रार सहकारी समितियां कोटा जीएस मीणा व एमओ आईसीडीपी सहकारी विभाग जयपुर जितेन्द्र शर्मा को शामिल किया गया है।