हाड़ौती युवा मंच ने वाहन व मशाल जुलूस निकाल दी शहीदों को श्रद्धांजलि

0
234

न्यूज चक्र @ कोटा
हाड़ौती युवा मंच की ओर से शहीद दिवस के अवसर पर शुक्रवार को वाहन व मशाल जुलूस निकाल कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई। इस दौरान कार्यकर्ता अपने हाथों में तिरंगे व भगवा ध्वज लिए हुए थे। साथ ही देशभक्ति के नारे लगा रहे थे। उल्लेखनीय है कि आज ही के दिन अर्थात 23 मार्च को अंग्रेजी हुकूमत ने सरदार भगत सिंह, सुखदेव व राजगुरू को फांसी के तख्ते पर चढ़ा दिया था।
सीएडी सर्किल स्थित वैद्य दाऊदयाल जोशी स्टेच्यू सर्किल से यह जुलूस प्रारम्भ हुआ। सिर पर भगवा पगड़ी बांधे कार्यकर्ता शहीद ए आजम भगत सिंह के जयकारे और वन्देमातरम् के उद्घोष करते चल रहे थे। डीजे पर बजते देशभक्ति के गीतों पर थिरकते युवाओं ने हाथों में भगत सिंह की क्रांति की प्रतीक जलती हुईं मशालें ले रखी थीं। मशाल जुलूस में सबसे आगे भारत माता के चित्र के साथ शहीद भगत सिंह, सुखदेव व राजगुरू के अलावा वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप व शिवाजी महाराज के चित्रों से सजा हुआ रथ चल रहा था। हाड़ौती युवा मंच के अध्यक्ष युधिष्ठिर खटाणा ने बताया कि जुलूस कैथूनीपोल, सब्जी मण्डी, गुमानपुरा होते हुए शहीद स्मारक पर पहुंचा। जहां कार्यकर्ताओं ने शहीदों को पुष्पांजलि अर्पित की। जुलूस प्रारम्भ होने से पूर्व विधायक प्रहलाद गुंजल ने मंच के कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि भगत सिंह विचारों के प्रकाश पुंज थे। उनके अंदर सम्पूर्ण देश का नेतृत्व करने की क्षमता थी। उनके पास माफी मांगकर जिंदा रहने और फांसी पर झूलने के दोनों रास्ते मौजूद थे, लेकिन उन्होंने आत्म बलिदान का रास्ता चुना। भगत सिंह की तीन पीढ़ियों ने इसी रास्ते पर चलकर भारत माता के चरणों में अपनी आहुति दी। यह दिन हिन्दुस्तान के इतिहास में हजारों साल तक याद रखा जाएगा। साथ ही यह युवा पीढ़ी को प्रेरणा देता रहेगा। जिन क्रांतिवीरों को आजादी के 70 साल बाद भी कागजों में शहीद का दर्जा प्राप्त नहीं हुआ, उन्हें देशवासियों ने हमेशा के लिए अपने दिल में बसा रखा है। देश के लिए अपने प्राणों को न्यौछावर करने वाले क्रांतिकारियों को भी उनका अधिकार दिया जाना चाहिए। उनके क्रांतिकारी विचारों को जीवन में धारण करने की आवश्यकता है। यह मशाल जो आज युवाओं ने हाथों में थामी है, यह इंकलाब और हुंकार के साथ जोश व उमंग की प्रतीक है।

शहीद दिवस पर सुबह हाड़ौती युवा मंच की ओर से आईटीआई काॅलेज धानमंडी रोड पर भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरू की प्रतिमाओं का दुग्ध से अभिषेक कर पुष्पांजलि अर्पित की गई। इसके बाद जेके लोन अस्पताल में मरीजों को फल वितरण किया गया। वहीं, शाम को शहीद चौक, अंटाघर स्थित शहीद स्मारक पर कार्यकर्ताओं ने समारोहपूर्वक श्रद्धांजलि अर्पित की। कार्यक्रम में पार्षद बृजेश शर्मा नीटू, लोकेश चतुर्वेदी, मंच के अध्यक्ष युधिष्ठिर खटाणा, मीडिया प्रभारी मयूर सक्सेना, राजेश राव, अर्जित शर्मा, प्रेमसिंह, प्रतीक शर्मा, दीपक भाटिया, सुमित डोई आदि भी मौजूद थे। अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के राजस्थान प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप माथुर सहित सुनील भटनागर , नीरज कुलश्रेष्ठ , पार्षद बृजेश शर्मा (नीटू), लोकेश चतुर्वेदी , बद्री गोचर सुधीश गर्ग , श्याम तिवारी ,अनिल तिवारी आदि ने भी मशाल जुलूस में भागीदारी निभाई।