बिप्लव के त्रिपुरा का सीएम बनने पर कायस्थ समाज ने आतिशबाजी कर खुशी जताई

0
362

मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते बिप्लव कुमार देव।

न्यूज चक्र @ कोटा
हाल ही में सम्पन्न हुए त्रिपुरा विधानसभा के चुनाव में बहुमत मिलने पर गठित भाजपा सरकार में बिप्लव कुमार देब को मुखयमंत्री बनाए जाने से कायस्थ समाज में खुशी की लहर है। इस खुशी का इजहार रविवार को अखिल भारतीय कायस्थ महासभा ने आतिशबाजी कर व मिठाई बांटकर किया।
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के राजस्थान प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप माथुर की अगुवाई में समाजबंधु महावीर नगर स्थित एलबीएस कैम्पस में एकत्र हुए। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए माथुर ने कहा कि कायस्थ समाज की युवा प्रतिभा बिप्लव को यह सम्मान व अहम जिम्मेदारी मिलने से देशभर के समाजबंधुओं में गर्व के साथ भारी खुशी की अनुभूति भी है। उन्होंने यह विश्वास भी जताया कि बिप्लव त्रिपुरा के हालात सुधारने के मामले में वहां की जनता की अपेक्षाओं पर सौ प्रतिशत खरा उतरेंगे। प्रदेश अध्यक्ष के अलावा अन्य सभी कायस्थ बंधुओं ने भी बिप्लव कुमार देब के कार्यकाल की सफलता के लिए शुभकामनाएं दीं।
महासभा की युवा शाखा के जिलाध्यक्ष मयूर सक्सेना ने बताया कि इस अवसर पर महासभा के सम्भागीय महामंत्री सुनील भटनागर, जिलाध्यक्ष डॉ. विवेक श्रीवास्तव, कोषाध्यक्ष आशुतोष श्रीवास्तव, मीडिया प्रभारी संतोष श्रीवास्तव, किशोर माथुर, एसपी माथुर, युवा शाखा के सम्भागीय महामंत्री आशीष सक्सेना, जिला महामंत्री विशाल सक्सेना, उपाध्यक्ष मनीष सक्सेना, प्रतीक माथुर, नीरज कुलश्रेष्ठ, बीएन माथुर, विशाल माथुर, रमेश माथुर, मनीष माथुर, मनीष भटनागर, पंकज सक्सेना, आदि मौजूद थे।
 जीवन परिचय
48 वर्षीय बिप्लब का जन्म त्रिपुरा के गोमती जिले के राजधर नगर गांव में हुआ था। इनके पूर्वज वर्तमान बांग्लादेश से यहां आकर बसे थे। स्नातक के बाद आगे की पढ़ाई के लिए बिप्लव दिल्ली आ गए। त्रिपुरा में इन्होंने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के रूप में वहां आदिवासियों के कल्याण के लिए अहम कार्य किए थे। इससे आदिवासियों से उनका खासा जुड़ाव रहा। उन्होंने वहां जिला परिषद के चुनावों में आदिवासियों के बीच भाजपा के लिए प्रचार भी किया था। दिल्ली में ये जिम ट्रेनर भी रहे। यही रहते हुए उन्होंने भारतीय स्टेट बैंक में अधिकारी नीति से प्रेम विवाह किया। इनके एक पुत्र व एक पुत्री है।
त्रिपुरा चुनाव से काफी पूर्व भाजपा ने बिप्लव को प्रदेश अध्यक्ष बना कर वहां प्रचार की कमान देकर भेजा। जहां इन्होंने अपनी अपूर्व क्षमता का परिचय देते हुए 25 वर्षों से काबिज लेफ्ट की सरकार को बुरी तरह मात दे दी।