माेदी की झुंझुनूं रैली में तय हो जाएगा दिग्गजों का भविष्य!

0
332

न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क
8 मार्च को झुंझुनू में होने वाली प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रैली से शेखावाटी के दिग्गजों का चुनावी भविष्य तय होना माना जा रहा है। इसी को देखते हुए टिकट के दावेदार भाजपाई जबरदस्त मशक्कत कर रहे हैं। उनका प्रयास है कि रैली में अपने साथ अधिक से अधिक कार्यकर्ताओं को लेकर पहुंचें।
रैली में कम कार्यकर्ताओं के साथ पहुंचने वाले वर्तमान जनप्रतिनिधियों का टिकट कटना तय माना जा रहा है। इसी के चलते सीकर व झुंझुनूं के सांसद सहित भाजपा विधायक दिन-रात जनसम्पर्क में लगे हुए हैं। प्रधानमंत्री की इस रैली को विधानसभा चुनावों के शंखनाद सहित आगामी दिनों में होने वाले शक्ति प्रदर्शन से भी जोड़ा जा रहा है।
दस हजार का टारगेट
पीएम की रैली के लिए सीकर जिले की आठों विधानसभा क्षेत्रों में से हर विधानसभा क्षेत्र से दस-दस हजार कार्यकर्ताओं को लाने का लक्ष्य दिया गया है। इसके लिए पार्टी प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी ने भी जयपुर में बैठक कर सभी को सख्त निर्देश दिए थे। इसी के चलते भाजपा विधायक अपने विधानसभा क्षेत्रों में तथा जहां भाजपा विधायक नहीं हैं वहां विधानसभा चुनाव में प्रत्याशी रहे व सक्रिय कार्यकर्ता जनसम्पर्क की इस जिम्मेदारी को निभा रहे हैं। सांसद भी लगातार क्षेत्रों में दौरा कर संख्या का आंकड़ा जानने में लगे हुए हैं।
विधानसभावार होगी गणना
विधानसभा चुनाव से आठ माह पूर्व होने वाली भाजपा की इस बेहद महत्वपूर्ण रैली में पहुंचने वाले कार्यकर्ताओं की विधानसभावार गणना भी की जाएगी। इससे जनप्रतिनिधियों के झूठे आंकड़े नहीं चल पाएंगे। रैली में पहुंचने वाली गाड़ियों की विधानसभावार चार स्थानों पर जांच होगी व उनकी संख्या लिखी जाएगी। इसके अलावा सीसीटीवी कैमरों से भी रिकॉर्डिंग की जाएगी। इससे यह पता चल सकेगा कि विधानसभावार कितनी संख्या में कार्यकर्ता पहुंचे। जिस विधानसभा क्षेत्र से कम संख्या में कार्यकर्ता पहुंचेंगे, उनके सम्बन्धित जिम्मेदारों को बाद में तलब किया जाएगा। रैली में संख्या को लेकर भाजपा के केन्द्रीय पदाधिकारी भी निगाह रखे हुए हैं।
पहली बार रैली से पहले गाड़ियों का भुगतान
भाजपा की ओर से विधानसभा के अनुसार कार्यकर्ताओं के रैली में पहुंचने के लिए मंडल स्तर पर पहले ही कार्यकर्ताओं को गाड़ियों का भुगतान किया जा रहा है, जिससे कोई कार्यकर्ता यह नहीं कह सके कि गाड़ी नहीं मिलने के कारण नहीं पहुंच सके। इसके अलावा राज्यमंत्री व बोर्ड के अध्यक्ष भी लगातार सक्रिय हैं।
शेखावाटी पर इसलिए है ज्यादा ध्यान
शेखावाटी के सीकर, चूरू व झुंझुनूं जिलों में 21 विधानसभा सीटें हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा ने सीकर में 5, झुंझुनूं में 3 व चूरू में 4 सीटों पर तथा तीनों जिलों से भाजपा के सांसदों ने जीत हासिल की थी। हालांकि झुंझुनूं उपचुनाव में भाजपा की एक सीट कांग्रेस ने छीन ली है। इसके अलावा सीकर में कांग्रेस ने 2 तथा झुंझुनूं व चूरू में 1-1 सीट जीत थी। चूरू व झुंझुनूं की 1-1 सीट बसपा ने जीती थी। इसी तरह 3 निर्दलियों ने भी चुनाव जीता था। जाट बाहुल्य वाला यह शेखावाटी क्षेत्र बड़े व्यापारिक घरानों, शिक्षा व सैनिकों के क्षेत्र के रूप में भी जाना जाता है।
इस सम्बन्ध में भाजपा के झुंझुनू जिलाध्यक्ष मनोज सिंघानिया का कहना है कि हर विधानसभा क्षेत्र से दस-दस हजार कार्यकर्ताओं को लाने का लक्ष्य दिया गया है। इस बार गाड़ी लाने वाले कार्यकर्ताओं को पहले ही भुगतान किया जा रहा है। कार्यकर्ताओं की संख्या का सही पता लगाने के लिए सीसीटीवी व चैक पोस्ट की व्यवस्था की जा रही है।