सदन में रिवॉल्वर लिए पहुंच गए विधायक, सुरक्षा व्यवस्था धरी रह गई

राजस्थान विधानसभा की चाक- चौबंद सुरक्षा व्यवस्था को बसपा नेता एवं विधायक मनोज न्यांगली ने धत्ता बता दिया

0
213

न्यूज चक्र @ जयपुर
राजस्थान विधानसभा की चाक चौबंद सुरक्षा व्यवस्था की पोल सोमवार को खुल गई। बसपा नेता एवं विधायक मनोज न्यांगली सदन में ही पिस्टल लिए पहुंच गए। दो घंटे तक वे वहां पिस्टल लिए बैठे रहे।

इससे पूर्व विधानसभा के पश्चिमी गेट पर मीडिया से बातचीत के दौरान ही उनकी जेब में रखी पिस्टल साफ दिखाई दे रही थी। मगर किसी भी स्तर पर न्यांगली की इस हरकत पर आपत्ति नहीं जताई गई। खास बात यह है कि विधानसभा के सदन में मोबाइल तक ले जाने की अनुमति नहीं है।
विधायक ने मांगी माफी
इस पूरे घटनाक्रम पर मनोज न्यांगली ने बाद में माफी मांगते हुए बचकाना स्पष्टीकरण दिया। कहा- गलती से पिस्टल लेकर आ गया था, आगे से ऐसी गलती नहीं होगी। गौरतलब है कि न्यांगली पर कुछ साल पहले हरियाणा की गैंग ने फायरिंग की थी। इस जानलेवा हमले में न्यांगली की आंख में गोली लगी थी। उनके भाई की भी हत्या हो चुकी है। इस कारण न्यांगली को सरकार ने सुरक्षा उपलब्ध करा रखी है। यही नहीं न्यांगली बुलेट प्रूफ जैकेट भी पहनकर रहते हैं।
यहां खास बात यह भी है कि विधानसभा में प्रवेश के लिए विधायकों की सुरक्षा जांच नहीं होती है। यही कारण रहा कि वे धड़ल्ले से सदन में पिस्टल सहित पहुंच गए। इस पूरे मामले में कार्रवाई का अधिकार स्पीकर को है।
इस मामले को लेकर वरिष्ठ विधायक घनश्याम तिवाड़ी ने कहा कि लाइसेंसी होने के बावजूद सदन में हथियार नहीं ले जाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि आसन के संज्ञान में कोई इस मामले को लाता है तो आसन इस पर कार्रवाई कर सकता है।