बून्दी पुलिस का नमूना, हंगामे की शिकायत की तो उल्टा ऑफिसर बोली-पुलिस को परेशान करते हो

0
376

न्यूज चक्र @ बून्दी

रजत गृह कॉलोनी के गेट नम्बर एक के एक मकान में किराये से रहने वाले छात्रों व उनके साथियों के घंटों से चल रहे हंगामे से परेशान हो एक क्षेत्रवासी ने पुलिस में शिकायत की। पुलिस की जीप मौके पर पहुंची। मगर उसमें सवार‌ एक लेडी ऑफिसर ने हंगामा कर रहे लड़कों की बजाय शिकायतकर्ता से ही तल्खी से कहा-पुलिस को क्यों परेशान करते हो। यह नमूना है बून्दी पुलिस का। इस तरह उसके प्रति जनता में विश्वास पैदा होगा।

मामले के अनुसार रजत गृह कॉलोनी के गेट नम्बर एक पर पुराने वाटर शेड ऑफिस के ऊपर वाले हिस्से में कॉलेज के कुछ छात्र किराये से रहते हैं। इन्होंने मकान पर ग्रामीण छात्र संगठन का बैनर टांग रखा है। किराये से रहने वाले छात्रों में एक राजकीय पीजी कॉलेज छात्रसंघ का अध्यक्ष भी बताया गया है। इनके पास पन्द्रह-बीस छात्रों का मजमा लगा रहता है। कई बार तो इनकी संख्या और भी ज्यादा हो जाती है। कई बार ये रात तक मकान की छत पर तेज आवाज में गाने चला कर हंगामा करते रहते हैं, नाचते रहते हैं। इनके साथी गली में बहुत तेज रफ्तार से बाइक दौड़ाते हैं। इन छात्रों की ऐसी हरकतों से सारे आस पड़ौसी परेशान हैं, मगर इनके डर के कारण सब चुप रहते हैं। पुलिस तक से शिकायत करने की हिम्मत नहीं कर पाते।
सोमवार शाम को भी 25-30 लड़के छत‌ पर जमा हो गए। छह बजे करीब से ही तेज आवाज पर गाने चला नाचने और शोर करने लगे। हालात यह हो गए कि इनके शोर-शराबे और गानों की तेज आवाज के चलते पड़ौसियों के बच्चे अपनी पढ़ाई भी नहीं कर पा रहे थे, जबकि उनकी परीक्षाएं चल रही हैं। रात आठ बजे तक यह हंगामा और भी तेज हो गया था। इस पर एक पड़ौसी ने 100 नम्बर पर इसकी शिकायत की। नौ बजे करीब ‌सदर थाने की जीप मौके पर पहुंची। मगर पुलिस की जीप को देख कर भी शांत होने की बजाय कुछ मिनट तक तो ये लड़के और तेजी से शोर करने लगे। इस बीच जीप शिकायतकर्ता के घर पहुंची और उसे बाहर बुलाया। वह बाहर आया तो जीप में बैठी एक महिला ऑफिसर ने पहले तो उससे मामले की जानकारी ली। मगर सबकुछ सुनने के बाद उल्टा उसे ही झिड़कते हुए कहा-“पुलिस को परेशान क्यों करते हो।”” इस पर वह व्यक्ति भौचक्का रह गया। अब उसके सामने तो समस्या यह है कि ऐसी ही परेशानी पैदा हुई तो वह शिकायत किससे करेगा?