सिपाही के फायरिंग करने से एक्सिस बैंक लुटने से बचा, 926 करोड़ रुपए थे बैंक में

जयपुर के पॉश इलाके में स्थित एक्सिस बैंक को लूटने के लिए हथियारबंद नकाबपोशों ने सिक्योरिटी गार्ड को बंधक बना लिया था, सिपाही के फायरिंग करने से डर कर भाग गए

0
269
जयपुर। सीसीटीवी फुटेज में लुटेरे।
जयपुर। लूट की असफल वारदात के बाद मौके पर कार्रवाई करते पुलिसकर्मी।
जयपुर। फायरिंग करने वाला सिपाही सीताराम।

न्यूज चक्र @ जयपुर
शहर के पॉश इलाके सी स्कीम के रमेश मार्ग पर स्थित एक्सिस बैंक की चेस्ट शाखा को सोमवार रात ढाई बजे करीब लूटने पहुंचे नकाबपोश हथियारबंद बदमाश एक सिपाही के हौंसले के कारण अपने मकसद में कामयाब नहीं हो सके। लुटेरे सिक्योरिटी गार्ड को बंधक बना चुके थे। वे बैंक लूट को अंजाम देने वाले थे,मगर वहां ड्यूटी पर तैनात एक सिपाई सीताराम ने फायर किया तो लुटेरे भाग खड़े हुए। बैंंक में उस समय करीब 926 करोड़ रुपए मौजूद बताए गए।
घटना के बाद पुलिस ने पूरे शहर में नाकाबंदी करते हुए बदमाशों की तलाश शुरू की। मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर बदमाशों की पहचान की कोशिश शुरू की। मंगलवार रात तक बदमाशों का कोई सुराग हाथ नहीं लगा था।
बैंक की यह ब्रांच प्रदेश के गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया के आवास से कुछ ही दूरी पर है। यह इलाका शहर के सबसे पॉश इलाकों में शामिल है। रातभर गश्त के पुलिस के दावों के बाद भी ऐसी वारदात सामने आना पुलिस की गश्त पर भी सवाल उठाती है।
पुलिस ने बताया कि अशोक नगर थाना इलाके में स्थित एक्सिस बैंक की चैस्ट ब्रांच पर 13 बदमाशों ने डकैती का प्रयास किया। इनोवा कार में आए बदमाशों ने पहले तो बैंक के बाहर खड़े सुरक्षा गार्ड को बंधक बना बना लिया। इसके बाद बैंक के मुख्य गेट के ऊपर से कूद कर बैंक परिसर में दाखिल हो गए। सभी बदमाश अपने चेहरों को नकाब से ढके हुए थे। इसी बीच वहां मौजूद पुलिसकर्मी ने बदमाशों को देख हवाई फायरिंग की और इसकी सूचना अशोक नगर थाने में दी। सूचना मिलते ही कुछ ही देर में पुलिस अधिकारी मय जाप्ते के मौके पर पहुंच गए। इसी बीच बदमाश कार में सवार हेाकर फरार होने में सफल हो गए। यह सारी घटना सीसीटीवी कैमरों में कैद हो गई। पुलिस सीसीटीवी फुटैज के आधार पर बदमाशों की पहचान करने में जुटी हुई है। कमिश्नर संजय अग्रवाल ने बैंक में तैनात पुलिसकर्मी सीताराम के साहस की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्हें सम्मानित करवाने का प्रयास किया जाएगा।
पुलिस के मुताबिक चैस्ट ब्रांच में करीब साढे़ नौ सौ करोड़ रुपए थे। पुलिस की सतर्कता से एक बड़ी वारदात टल गई। पुलिस कमिश्नर संजय अग्रवाल के अलावा एडिशनल कमिश्नर प्रफुल्ल कुमार व डीसीपी क्राइम विकास पाठक भी मौके पर पहुंचने वाले अधिकारियों में शामिल रहे।