पूर्व मुख्यमंत्री गहलोत 30 जनवरी को सांगोद में करेंगे जनसभा को सम्बोधित

0
251

न्यूज चक्र @ कोटा
पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत 30 जनवरी को जिले के सांगोद कस्बे में आयोजित जनसभा को सम्बोधित करेंगे। यह सभा महाराव भीमसिंह स्टेडियम में आयोजित होगी। पूर्व मंत्री भरतसिंह ने रविवार को उनके आवास पर आयोजित पत्रकार वार्ता में यह जानकारी दी।
सिंह ने आरोप लगाया कि वर्ष 2014 को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि 30 जनवरी के दिन ही सांगोद कस्बे में चौराहे पर लगी उनकी प्रतिमा खंडित कर दी गई थी। इसे न तो सरकार ने गम्भीरता से लिया और न ही पुलिस ने। न्यायालय में अब यह मामला लटका हुआ है। इसी मामले में कार्रवाई की मांग को लेकर सांगोद ब्लॉक कांग्रेस कमेटी की ओर से सभा का आयोजन किया जा रहा है। इसमें हाड़ौती के कई बड़े नेता भी शामिल होंगे। ये गोड़सेवादी विचारधारा के खिलाफ गांधीवादी सिद्धांतों की लड़ाई का आगाज करेंगे। सिंह ने इस सभा में हजारों किसानों, बेरोजगारों, आमजन व कांग्रेस कार्यकर्ताओं के शामिल होने का दावा किया। पूर्व मंत्री ने कहा कि गहलोत सोमवार शाम को कोटा सर्किट हाउस पहुंच जाएंगे। यहीं पर वे रात्रि विश्राम करेंगे। मंगलवार सुबह सर्किट हाउस में मीडिया से बातचीत करने के बाद वे सांगोद के लिए रवाना होंगे।
सिंह ने यह भी कहा कि सबका साथ, सबका विकास के सिद्धांत पर तो कांग्रेस काम करती है, भाजपा नहीं। इसी के आधार पर भाजपा से विचारधारा की लड़ाई लड़ रही है। भाजपा जल स्वावलम्बन के नाम पर अच्छे दिनों का सपना दिखा रही है, मगर वर्ष 2014 से बनकर तैयार भंवरसा बांध का आज तक उद्धाटन नहीं हो सका है। इस‌ सरकार के राज में किसान से लेकर आमजन तक की बेकद्री हो रही है। भाजपा सरकार ने कृषि में 4.97 प्रतिशत की बढ़ोतरी का लक्ष्य रखा था, मगर वह 2.07 प्रतिशत ही रह गया है। सामाजिक सुरक्षा के नाम पर 3 लाख खाते खोले गए, मगर उनमें आज तक एक पैसा भी जमा नहीं हुआ है।
तोगड़िया से भी जताई सहानुभूति
पूर्व मंत्री सिंह ने यह तक कहा कि इस सरकार में जेड श्रेणी की सुरक्षा प्राप्त लोग तक सुरक्षित नहीं हैं। इस सम्बन्ध में उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि विश्व हिन्दू परिषद के जेड सुरक्षा प्राप्त प्रवीण तोगड़िया तक ने उनकी जान को खतरा होने की बात कही। ऐसे में आम नागरिकों की सुरक्षा की स्थिति कैसी होगी, समझी जा सकती है। उन्होंने महिलाओं से सम्बन्धित अपराधों में भी 40 प्रतिशत की बढ़ोतरी का आरोप लगाया। साइबर क्राइम के निपटारे के लिए कोई व्यवस्था नहीं होने से एक भी मामला नहीं खुला। उनके अनुसार कोटा शहर में ही हुई हत्याओं, लूट, चैन स्नेचिंग, आत्महत्याओं की घटनाओं ने सरकार की पोल खोलकर रख दी है। इस अवसर पर वरिष्ठ कांग्रेस नेता डॉ. इकराम खान, बारां प्रधान अजीत सिंह माथनी व सरपंच कुशल सिंह भी मौजूद थे।