भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक पार्ट टू से पाकिस्तान को दिया जवाब

0
303
प्रतीकात्मक फोटो

न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क

आतंकवाद के पनाहगाह पाकिस्तान को भारत ने उसी के अंदाज में जवाब दे दिया है। भारतीय सेना ने अपने जवानों की शहादत का बदला लेने के लिए रविवार देर शाम लाइन ऑफ कंट्रोल के पार जाकर पाकिस्तानी सेना पर हमला किया। इस कार्रवाई में भारतीय जवानों ने पाकिस्तान की सीमा में घुसकर उसके जवानों को मौत के घाट उतार दिया। पाकिस्तान ने इस कार्रवाई में उसके तीन जवानों के मारे जाने व एक के घायल होने की बात कही है। वहीं भारत ने इस कार्रवाई में पाकिस्तान के छह से अधिक जवानों के मारे जाने व कई अन्य के घायल होने के साथ उसका भारी नुकसान होने का दावा भी किया है।

सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान की तरफ से शनिवार को हुई फायरिंग में चार भारतीय जवानों की शहादत के बाद इस ऑपरेशन अंजाम दिया गया। भारतीय जवान जम्मू-कश्मीर में रावलाकोट सेक्टर में एलओसी पार पहुंचे। यहां पाकिस्तानी जवानों के साथ क्रॉस फायरिंग में पाकिस्तानी सैनिकों को ढेर कर दिया।

500 मीटर पाक सीमा में घुसे जवान

जानकारी के अनुसार रविवार देर शाम लिए गए इस सख्त एक्शन में जवान बेखौफ होकर एलओसी पार गए। वे सीमा पार कर 500 मीटर तक अंदर चले गए। जवान पूरी तैयारी के साथ पाकिस्तानी सीमा में घुसे थे। उनके पास आईईडी, असॉल्ट राइफल व हल्की मशीन गन थीं। भारतीय जवानों ने पाकिस्तान को उसकी सीमा में घुसकर न सिर्फ मुंहतोड़ जवाब दिया, बल्कि वहां करीब 45 मिनट रुककर अपनी हिम्मत और जज्बे का नमूना भी दिखा दिया।

ऑपरेशन में आईईडी ब्लास्ट बड़ी बात

इस ऑपरेशन में भारतीय जवानों द्वारा आईईडी (IED) का इस्तेमाल करना भी चौंकाने वाला है। दरअसल, जो जानकारी सामने आ रही है, उसके अनुसार, भारतीय जवानों ने एलओसी पार जाकर पहले पाकिस्तानी सीमा में आईईडी लगाए। इसी दौरान उनका पाकिस्तानी सेना से सामना हो गया और दोनों तरफ से फायरिंग हुई। इसी दौरान भारतीय जवानों की फायरिंग में पाकिस्तानी सैनिक ढेर हो गए।

पाक को मिलता रहेगा जवाब

सरकार के उच्च सूत्रों के मुताबिक, अगर पाकिस्तान भविष्य में भारतीय जवानों के खिलाफ किसी करतूत को अंजाम देता है तो उसे ऐसे ही जवाब दिया जाएगा। इस कार्रवाई से सरकार ने अपनी मंशा को जाहिर भी कर दिया है। 23 दिसम्बर को राजौरी के केरी सेक्टर में पाकिस्तान ने सीजफायर का उल्लंघन किया और उसकी फायरिंग में एक भारतीय मेजर समेत चार जवान शहीद हो गए। इसके अगले ही दिन यानी 24 घंटे के अंदर रविवार शाम भारतीय जवान एलओसी पार पहुंच गए और पाकिस्तान की कार्रवाई का करारा जवाब दे डाला।