पंडित ‘नागरजी’ की कथा के लिए 80 बीघा में बनाए पांडाल व पार्किंग स्थल, कथा 4 से

गौसेवक संत पंडित कमल किशोर 'नागरजी' की कथा एवं गोरक्षा सम्मेलन को लेकर गांवों में उत्सवी माहौल, पूर्व मंत्री प्रमोद जैन भाया ने तैयारियों का किया अवलोकन

0
275

न्यूज चक्र @ कोटा / बारां

बारां जिले के मांगरोल मार्ग स्थित बड़ा के बालाजी मंदिर परिसर में 4 से 10 दिसम्बर तक होने वाले ‘विराट श्रीमद् भागवत ज्ञान यज्ञ महोत्सव एवं गोरक्षा सम्मेलन-2017’ की तैयारियों को अंतिम रूप दे दिया गया है। आसपास के गांवों में इसे लेकर भारी उत्साह है।

पूर्वमंत्री प्रमोद जैन भाया व उनकी पत्नी उर्मिला जैन भाया इसकी व्यवस्थाओं पर विशेष निगाह रखे हुए हैं। साथ ही समय-समय पर कथा आयोजक श्री महावीर गोशाला कल्याण संस्थान के सदस्यों के साथ 80 बीघा क्षेत्रफ़ल तैयार किए गए कथा स्थल का अवलोकन कर आवश्यक निर्देश भी दे रहे हैं। प्रमोद भाया ने बताया कि बारां जिले में बड़ा के बालाजी धाम को तीर्थ स्थल के रूप में विकसित किया गया है। मंदिर परिसर की 80 बीघा भूमि पर कथा व गोरक्षा सम्मेलन के पांडाल व पार्किंग की व्यवस्था की जा रही है। मंदिर के नजदीक 20 बीघा भूमि पर विराट कथा पांडाल लगाने का काम लगभग पूरा हो चुका है।

30 बीघा में बनेंगे तीन पार्किंग स्थल
भाया ने बताया कि कथा स्थल से जुड़े तीन मार्गों पर चार पहिया वाहनों के लिए पार्किंग स्थल बनाए जा रहे हैं। पहला पार्किंग स्थल कथा स्थल से बारां की ओर व दूसरा मांगरोल मार्ग की ओर तथा तीसरा पार्किंग स्थल ग्राम बड़ा की ओर बनाया जा रहा है। दुपहिया वाहनों के लिए भी तीन पार्किंग स्थल रहेंगे। इनमें से दो पार्किंग स्थल गौशाला के पास तथा एक बालाजी मंदिर परिसर के मेला ग्राउंड में रहेगा। वाहनों के आवागमन को सुचारू रखने लिए समितियों के कार्यकर्ता नियमित सेवाएं देंगे।

बुजुर्ग श्रद्धालुओं के ठहरने की व्यवस्था भी
समाजसेवी उर्मिला जैन भाया ने बताया कि श्रीमद् भागवत कथा स्थल पर बाहरी राज्यों व जिलों से आने वाले सभी बुजुर्ग महिला व पुरुष श्रद्धालुओं के लिए 4 से 10 दिसम्बर तक ठहरने व भोजन के लिए अलग से व्यवस्था की गई है। सर्दी को देखते हुए 30 बीघा क्षेत्रफल में बनाए गए पांडाल में उनके ठहरने की निःशुल्क व्यवस्था रहेगी। जहां दिन-रात वे सामूहिक भजन-संकीर्तन भी कर सकेंगे।