महात्मा फुले पुण्यतिथि : माली (सैनी) युवा जागृति मंच ने दी समारोह पूर्वक श्रद्धांजलि

0
33

न्यूज चक्र @ कोटा
माली (सैनी) युवा जागृति मंच कोटा की ओर से मंगलवार को महात्मा फुले की 127 वीं पुण्यतिथि पर किशोरपुरा स्थित शिव मंदिर पर श्रद्धांजलि समारोह आयोजित किया गया। दौरान माली समाज के लोगों ने महात्मा फुले की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन के बारे में अपने विचार प्रकट किए।

 इस अवसर पर जागृति मंच के प्रदेशाध्यक्ष मुकेश बघेल ने कहा कि दलितों और निर्बल वर्ग को न्याय दिलाने के लिए ज्योतिबा ने ‘सत्य शोधक समाज’ स्थापित किया। उनकी समाज सेवा देखकर 1888 ई. में मुम्बई की एक विशाल सभा में उन्हें ‘महात्मा’ की उपाधि दी गई। ज्योतिबा ने ब्राह्मण-पुरोहित के बिना ही विवाह-संस्कार आरम्भ कराया। इसे मुम्बई हाईकोर्ट से भी मान्यता मिली। वे बाल-विवाह विरोधी और विधवा-विवाह के समर्थक थे।

भवानी शंकर धरती पकड़ ने कहा कि इन प्रमुख सुधार आंदोलनों के अतिरिक्त हर क्षेत्र में छोटे-छोटे आंदोलन जारी थे। जिसने सामाजिक और बौद्धिक स्तर पर लोगों को परतंत्रता से मुक्त किया था। लोगों में नए विचार, नए चिंतन की शुरुआत हुई, जो आजादी की लड़ाई में उनके सम्बल बने। वे कुरीतियों के घोर विरोधी थे। प्रदेश प्रभारी बलराम सुमन ने कहा कि महात्मा ज्योतिबा फुले सम्पूर्ण भारत वर्ष के प्रेरणा के स्रोत हैं। उन्होंने पिछड़ों और निर्बलों को आगे बढ़ाने का कार्य किया था। इस अवसर पर नन्दकिशोर सुमन, महेश सुमन, शहर अध्यक्ष नन्दलाल सुमन, आशुतोष सुमन, वीरेन्द्र सुमन, प्रतीक सैनी, व्यवस्थापक पवन सुमन, चम्पालाल सुमन आदि कार्यकर्ता मौजूद थे।