महारानी गर्ल्स स्कूल की छात्राएं अब पेटी में डाल सकेंगी अपनी शिकायत

0
340

न्यूज चक्र @ कोटा

राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष मनन चतुर्वेदी ने गुरुवार को महारानी गर्ल्स स्कूल रामपुरा में शिकायत पेटी का शुभारम्भ किया। अब छात्राएं अपनी समस्याओं को लिख कर इस पेटी में गुप्त रूप से डाल सकती हैं।

इस अवसर पर उपस्थित छात्राओं एवं बाल संरक्षण प्रभारियों को सम्बोधित करते हुए चतुर्वेदी ने कहा कि बच्चों के सामने अनेक समस्याएं हैं। हमें उन्हें चुनौती के रूप में लेकर दूर करते हुए प्रत्येक बालक को बाल सुरक्षा कानूनों के प्रति जागरूक बनाना है। उन्होंने कहा कि विद्यालयों में बच्चों को बाल संरक्षण, शिक्षा का अधिकार व उनसे सम्बन्धित कानूनों की जानकारी देने के लिए बाल संरक्षण क्लब बनाकर उन्हें सक्रिय किया जाएगा। उन्होंने बताया कि प्रत्यके जिले में 100 बच्चों को चिह्नित कर बाल संरक्षण आयोग कानून का सक्रिय कार्यकर्ता बनाया जाएगा। विद्यालयवार बाल संरक्षण कार्यकर्ता प्रार्थना सभाओं में प्रत्येक दिवस बाल संरक्षण कानून से सम्बन्धित जानकारी देंगे। उन्होंने थानों व विद्यालयों में नियुक्त बाल संरक्षण प्रभारियों का आह्वान किया कि संवेदनशीलता से कार्य कर बच्चों की समस्याओं का पूरे मनोयोग से समाधान करें। उन्होंने कहा कि शिकायत पेटी में बालिकाएं निर्भय होेकर अपनी बात रखें विद्यालय में गठित स्कूल प्रबंधन समिति के सदस्यों के द्वारा सम्बन्धित क्षेत्र के थाना प्रतिनिधि की उपस्थिति में खोली जाएगी। शिकायत पेटी में प्राप्त शिकायतों का संधारण रजिस्टर में कर सम्बन्धित पक्षों से इनका निराकरण कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस तरह की शिकायत पेटियां चरणबद्ध रूप से सभी शिक्षण संस्थाओं में रखवाई जाएंगी।

जिला बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष हरीश गुरूबक्षाणी ने कहा कि बाल संरक्षण आयोग की पहुंच सभी ग्राम पंचायतों, शिक्षण संस्थाओं एवं थानों तक की जाएगी। जिससे बालकों के अधिकारों का हनन ना हो। उन्होंने उपस्थित बालिकाओं का आह्वान किया कि शिकायत पेटी में अपनी शिकायतों के साथ-साथ सुधारात्मक सुझाव भी दें। चतुर्वेदी ने महारानी स्कूल में गठित बाल संरक्षण क्लब को मॉडल के रूप में संचालित करने की बात कही। इस अवसर पर सहायक कलक्टर प्रमोद सिंघव, जिला शिक्षा अधिकारी अंजलिका पलात, उपनिदेशक समाज कल्याण राकेश वर्मा, अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी नरेन्द्र गहलोत, शैक्षिक प्रकोष्ठ अधिकारी देवालाल गौचर सहित जिला बाल संरक्षण ईकाई के सदस्य, सभी थानों में नियुक्त बाल संरक्षण प्रभारी भी मौजूद थे।