परेश रावल ने कांग्रेस को जवाब देने के लिए किए अपने ट्वीट को डिलीट किया

    0
    1484

    न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क
    सांसद और अभिनेता परेश रावल ने भी पीएम मोदी को निशाना बना कर किए कांग्रेस के ट्वीट के जवाब में ट्वीट किया। मगर विवाद बढ़ा तो उन्होंने भी कांग्रेस की तरह अपने ट्वीट को डिलीट कर माफी मांग ली।उल्लेखनीय है कि कांग्रेस की ऑनलाइन मैगजीन ‘युवा देश’ ने मंगलवार (21 नवम्बर) को नरेन्द्र मोदी पर एक अपमानजनक MEME अपने ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किया। इसमें मोदी डोनाल्ड ट्रम्प और थेरेसा से बातचीत करते नजर आ रहे थे। इस MEME में मोदी के फोटो के ऊपर लिखा है, ‘आप लोगों ने देखा विपक्ष मेरे कैसे-कैसे मेमे बनवाता है?’ वहीं ट्रम्प के फोटो के ऊपर लिखा है, ‘उसे मेमे नहीं मीम’ कहते हैं। एकदम दाईं ओर ब्रिटेन की पीएम थेरेसा के फोटो के ऊपर लिखा है, ‘तू चाय बेच’। युवा देश ने इसी क्रम में एक और MEME पोस्ट किया। इसमें मोदी कहते नजर आ रहे है-विकास के लिए 22 साल काफी नहीं थे, हमें एक और मौका चाहिए। एक लड़की उन्हें जवाब दे रही है, दूसरों के बाथरूम की बजाय समय पर अपने बेडरूम में झांक लिए होते तो विकास आज घोड़ी चढ़ रहा होता।

    इसके जवाब में परेश रावल  ने ट्वीट में कहा, “हमारा चाय वाला किसी भी दिन तुम्हारे बार वाले से बेहतर है।” बाद में परेश ने इस ट्वीट को डिलीट कर माफी मांग ली। उन्होंने लिखा, “उसे अच्छा ट्वीट नहीं कहा जा सकता। इसलिए मैंने उसे डिलीट कर दिया। अगर किसी की भावनाएं आहत हुईं हो तो मैं माफी मांगता हूं।” इससे पूर्व कांग्रेस ने भी विवादित ट्वीट डिलीट कर माफी मांग ली थी।

    उधर, गुजरात के सीएम विजय रूपाणी ने भी कांग्रेस से जवाब मांगते हुए लिखा, “यह गरीबों के खिलाफ कांग्रेस के नजरिए को दिखाता है। क्या क्राउन प्रिंस (राहुल गांधी) इसका समर्थन करते हैं?”

    कांग्रेस पहले भी खड़ा कर चुकी है विवाद

    जनवरी 2014 में लोकसभा चुनाव के पहले वरिष्ठ नेता लीडर मणिशंकर अय्यर ने कहा था- “मोदी कभी इस देश के प्रधानमंत्री नहीं बन सकते। अगर वो चाहें तो यहां आकर कांग्रेस के लोगों को चाय जरूर पिला सकते हैं।”
    लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान मोदी ने इसे अच्छी तरह से भुनाया। मोदी ने कहा था- ऐसे शख्स को बर्दाश्त करना सीखिए जो पिछड़ी जाति से आता हो। बाद में भाजपा ने ‘चाय पे चर्चा’ के नाम से नुक्कड़ सभाएं भी कीं। चुनाव परिणाम में इसका भी काफी फायदा भाजपा को मिलने की बात मानी जाती है।
    यहां यह भी गौरतलब है कि कुछ दिन पूर्व ही राहुल गांधी ने गुजरात में अपने कार्यकर्ताओं से अपील की थी कि वे मोदी पर गलत कमेंट ना करें, क्योंकि वो देश के प्रधानमंत्री हैं। मगर इसके बावजूद भी यूथ कांग्रेस ने विवाद खड़ा कर दिया।