जनप्रतिनिधि चिकित्सकों को ड्यूटी पर लौटने के लिए प्रेरित करें: शिवांगी

वॉक इन इन्टरव्यू के माध्यम से मानदेय पर चिकित्सक रखे जाने की राज्य सरकार ने दी स्वीकृति

0
106

न्यूज चक्र @ बून्दी
सेवारत चिकित्सकों की हड़ताल के दौरान आमजन को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए राज्य सरकार ने सेवानिवृत चिकित्सक, एमबीबीएस डिग्री धारक या पीजी डिग्री धारक को मानदेय पर रखे जाने की स्वीकृति प्रदान कर दी है। इन चिकित्सकों को 56 हजार रुपए प्रतिमाह अथवा एमबीबीएस एवं सेवानिवृत एमबीबीएस चिकित्सक को 3 हजार रुपए प्रति दिवस पर एवं पीजी डिग्री धारक अथवा सेवानिवृत पीजी डिग्री धारक को 4 हजार रुपए प्रति दिवस तथा रात्रि कालीन ड्यूटी पर 7 सौ रुपए प्रति ड्यूटी अतिरिक्त भुगतान किया जाएगा।
जिला कलक्टर शिवांगी स्वर्णकार ने जिले के सभी नागरिकों, जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों एवं कर्मचारियों से अपील की है कि यदि उनकी नजर में कोई सेवानिवृत चिकित्सा अथवा एमबीबीएस डिग्री धारक या पीजी डिग्री धारक चिकित्सक हों तो उन्हें भी यह जानकारी उपलब्ध कराएं।
जिला कलक्टर ने सभी जनप्रतिनिधियों, विधायक, जिला प्रमुख, उपजिला प्रमुख, जिला परिषद सदस्य, पंचायत समिति सदस्य, प्रधान, नगर परिषद सभपति, नगरपालिका अध्यक्षों, समस्त सरपंचों,वार्ड पार्षदों तथा वार्ड पंचों से भी अपील कि है कि वे सेवारत चिकित्सकों को अपनी ड्यूटी पर लौटने के लिए प्रेरित करें, ताकि आमजन को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध हो सके।
चिकित्सक काम पर नहीं लौटे तो होगी कार्यवाही
जिला कलक्टर शिवांगी स्वर्णकार ने जिला अस्पताल, ग्रामीण क्षेत्र के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में कार्यरत सभी सेवारत चिकित्सकों से तत्काल हड़ताल समाप्त कर अपनी ड्यूटी पर वापस लौट आमजन को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाने की अपील की है।
उन्होंने सभी सेवारत चिकित्सकों को आश्वस्त किया है कि जो चिकित्सक अपनी ड्यूटी पर लौटकर सेवाएं देना प्रारम्भ कर देंगे उनके विरुद्ध राज्य सरकार कोई कानूनी कार्यवाही नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि अपील के बाद भी जो सेवारत चिकित्सक अपनी ड्यूटी पर उपस्थित नहीं होंगे, उनके विरुद्ध नियमानुसार अग्रिम कानूनी कार्यवाही की जाएगी।