बून्दी: व्यथित विदेशी सैलानियों को करनी पड़ी सफाई

0
636

न्यूज चक्र @ बून्दी
सरकारी आंकड़ों में स्वच्छता के मामले में राज्य में अव्वल घोषित ऐतिहासिक बून्दी शहर बुधवार को उस समय शर्मसार हो उठा, जब यहां कुछ स्थानों पर जमे कचरे के ढेरों को विदेशी सैलानी साफ करते नजर आए। यहां तक कि इन्होंने हाथों में स्वच्छता का संदेश देने वाले पोस्टर लिए नवलसागर झील तक रैली भी निकाली और सड़क की सफाई की। यह घटना इस स्थिति में और भी अधिक गम्भीर हो जाती है, जब ‘बून्दी उत्सव’ के तीसरे व आखिरी दिन बुधवार को शहरवासियों को यह मंजर देखने को मिला। इन सैलानियों के साथ नगर परिषद में प्रतिपक्ष नेता लोकेश ठाकुर भी थे।
गौरतलब है कि 6 से 8 नवम्बर तक आयोजित किए जा रहे बून्दी उत्सव समारोहों को लेकर नगर परिषद की ओर से शहर को गंदगी से मुक्त किए जाने के तमाम प्रयासों के साथ दावे भी किए गए। इसके बावजूद भी विदेशी सैलानियों को यहां इतनी गंदगी दिखी कि वे व्यथित हो प्राकतिक सुंदरता से लबरेज इस शहर को खुद साफ करने में जुट गए। पता चला है कि बून्दी उत्सव के दूसरे दिन मंगलवार को दिल्ली की एक टूरिस्ट कम्पनी के सानिध्य में इंग्लैड (यूके) से आया 13 सैलानियों का दल विख्यात रानीजी की बावड़ी का अवलोकन करते समय पार्षद एवं युवा कांग्रेस नेता लोकेश ठाकुर के सम्पर्क में आया। ठाकुर नगर परिषद में प्रतिपक्ष के नेता भी हैं। इन विदेशियों ने बून्दी की प्राकृतिक सुन्दरता के साथ यहां की भव्य स्थापत्य कला की तो भरपूर तारीफ की, मगर वे गंदगी से दुखी नजर आए। इसी के साथ उन्होंने अगले दिन भी यहीं रुकने की जानकारी देते हुए पुराने शहर के कुछ भागों में साफ-सफाई करने की इच्छा जताई। साथ ही इसके लिए ठाकुर से सहयोग देने की अपील भी की। इसमें विशेषतौर पर स्वच्छता का संदेश देने वाले पोस्टर बनवा कर देने की मांग की। इसी के तहत इन सैलानियों को  Clean Bundi, Save Tourism लिखेे हुुए पोस्टर उपलब्ध करवाए गए। इन पोस्टरों को लिए विदेशी सैलानियों ने पहले तो मोती महल रावले के आसपास जमा कचरे के ढेरों की सफाई की। इसके बाद ये रैली के रूप में नवलसागर झील की ओर रवाना हुए। इस दौरान भी पूरे रास्ते इन्होंने सड़क पर झाड़ुओं से सफाई की। इस नजारे को देख जहां शहरवासी अचम्भित थे तो कई इस पर भारी शर्मिन्दगी भी महसूस कर रहे थे। लोग स्वच्छता के मामले में नम्बर वन घोषित किए गए बून्दी शहर की वास्तविकता पर सवाल उठाते नजर आए तो नगर परिषद के दावों को कोसते हुए भी। प्रतिपक्ष नेता ठाकुर ने भी कहा कि अब तो नगर परिषद के साथ सरकार को भी बून्दी के हालात की हकीकत समझ में आ जानी चाहिए, वरना ऐसा न हो ऐसे और नजारे शहरवासियों को शर्मसार करते नजर आएं। उन्होंने कहा कि विदेशी सैलानियों का यह कदम बून्दी नगर परिषद के मुंह पर तगड़ा तमाचा है।
वहीं, नगर परिषद के सभापति महावीर मोदी ने अपना बचाव करते हुए तर्क दिया कि कचरे के ढेर सुबह आठ बजे के बाद उठाए जाते हैं। मगर इससे पहले ही विदेशी सैलानियों ने यह काम करना शुरू कर दिया था। मोदी ने कुुछ माह पूर्व स्वच्छता के मामले में राज्यभर में बून्दी के प्रथम घोषित होने को भी पूरी तरह से सही बताया।