मेडिकल एवं इंजीनियरिंग परीक्षाओं की निःशुल्क कोचिंग के लिए एमओयू

0
238
न्यूज चक्र @ जयपुर
 शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी की मौजूदगी में सोमवार को प्रदेश के राजकीय विद्यालयों के बच्चों को मेडिकल एवं इंजीनियरिंग प्रतियोगी परीक्षाओं की निःशुल्क कोचिंग कराने के लिए शिक्षा संकुल  स्थित सभागार में एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए। एमओयू पर कोटा स्थित एलन कोचिंग इंस्टीटयूशन के कॉर्पोरेट हेड भानूप्रताप सिंह और राज्य सरकार की ओर से माध्यमिक शिक्षा परिषद की आयुक्त आनंदी ने हस्ताक्षर किए।
शिक्षा राज्यमंत्री देवनानी ने बताया कि स्कूल शिक्षा विभाग और इलेट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार के समन्वय से प्रदेश के 770 राजकीय विद्यालयों तथा 11 जिला शिक्षण व प्रशिक्षण संस्थाओं में स्मार्ट वर्चुअल क्लास रूम स्थापित किए गए हैं। इस एमओयू के माध्यम से राज्य के दूरदराज ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित विद्यालयों के विद्यार्थियों को मेडिकल एवं इंजीनियरिंग परीक्षाओं की निःशुल्क कोचिंग सुविधा उपलब्ध हो सकेगी। विद्यार्थियों को वर्चुअल क्लास के जरिये कोचिंग संस्थान द्वारा निःशुल्क तैयारी करवाई जाएगी। उन्होंने बताया कि ऎसे बच्चे जो शहरों में स्थित कोचिंग संस्थानों का वहां नहीं रह सकने के कारण लाभ नहीं ले पाते हैं, उन्हें इसका फायदा मिलेगा।
इसके तहत आरम्भ में 11 वीं कक्षा में अध्यनरत बच्चों को निःशुल्क स्मार्ट वर्चुअल क्लासेज में पढाई समय के दौरान ही कोचिंग का लाभ मिल सकेगा। अगले चरण में 12 वीं के बच्चों को यह कोचिंग मिलेगी। कोचिंग के तहत प्रतियोगी परीक्षाओं की उत्कृष्ट पाठक सामग्री उपलब्ध कराने के साथ ही विद्यार्थियों के उठाए प्रश्नों, उनकी समझने से सम्बन्धित समस्याओं का भी कोचिंग सेन्टर के विषय-विशेषज्ञों द्वारा समाधान किया जाएगा। इसके लिए अतिरिक्त ‘डाउट क्लासेज’ की  कोचिंग विद्यालयों में होगी।
देवनानी ने बताया कि निःशुल्क कोचिंग के एमओयू का लाभ उन विद्यार्थियों को विशेष रूप से मिलेगा जो दूरस्थ क्षेत्रों में पढ़ रहे हैं और उनमें अध्ययन के साथ-साथ प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी की भी ललक है। उन्होंने कहा कि राज्य के शिक्षा क्षेत्र का यह महती नवाचार है।