प्रदूषण की वजह से भारत में 25 लाख लोगों की मौत, वर्ष 2015 की रिपोर्ट : Lancent Medical Journal

0
345
polluted city background

न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क/ नई दिल्ली
देश की राजधानी दिल्ली सहित सभी बड़े शहरों में प्रदूषण का स्तर बेहद खतरनाक स्तर पर है। दिवाली पर पटाखों की बिक्री पर पाबंदी के बावजूद दिल्ली-एनसीआर के कई इलाकों में खूब आतिशबाजी हुई। इस बार गत वर्ष के मुकाबले प्रदूषण कुछ कम तो रहा, लेकिन वह इसके बाद भी खतरनाक स्तर पर है।वहीं प्रदूषण पर एक ताजा रिपोर्ट के आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2015 में भारत में 25 लाख लोगों की मौत प्रदूषण के चलते पैदा होनेवाली बीमारियों की वजह से हुई, जो दुनिया में सर्वाधिक है। माना जा सकता है कि यह आंकड़ा इसके बाद वाली रिपोर्ट में और अधिक बढ़ा हुआ मिलेगा। प्रदूषण पूरी दुनिया में हर साल युद्ध और हिंसा से ज्यादा लोगों की जान ले रहा है। यह धुम्रपान, भूख और प्राकृतिक आपदा से भी ज्यादा लोगों की मौत की वजह बन रहा है।

Lancent Medical Journal के अध्ययन में यह बताया गया है कि वर्ष 2015 में विश्वभर में कुल 90 लाख लोगों की मौत प्रदूषण की वजह से हुई थी। इसमें प्रदूषित हवा इन मौतों की सबसे बड़ी वजह है। करीब 65 लाख लोगों की मौत खराब हवा की वजह से हुई। दूसरे नम्बर पर प्रदूषित पानी है, जिसकी वजह से 18 लाख लोगों की मौत हुई।
प्रदूषण की वजह से वर्ष 2015 में सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई, जहां 25 लाख लोग इसकी भेंट चढ़ गए। वहीं चीन में इस कारण 18 लाख लोगों की मौत हुई। बांग्लादेश, पाकिस्तान, नॉर्थ कोरिया, साउथ सूडान जैसे देशों में कुल अकाल मौतों का पांचवां हिस्सा प्रदूषण की वजह से होता है।

Source: India TV News Desk