स्वामीनाथन आयोग की 80 फीसदी सिफारिशें हो चुकी हैं लागूः पैचला

भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के कार्यक्रम में जिला प्रभारी ने किया यह दावा। किसानों की समस्याओं के समाधान के लिए तीन महत्वपूर्ण प्रस्ताव लेकर राज्य सरकार को भेजे।

0
228

 

भाजपा जिलाध्यक्ष महिपत सिंह हाड़ा
किसान मोर्चा जिलाध्यक्ष महेन्द्र शर्मा

न्यूज चक्र @ बून्दी
भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के जिला प्रभारी ऊदल सिंह पैचला ने दावा किया कि सीकर में किसान जिस स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करने की मांग को लेकर कई दिन से आंदोलन कर रहे हैं, उस रिपोर्ट के अस्सी फीसदी प्रस्ताव राज्य में लागू किए जा चुके हैं। इस प्रकार यह आंदोलन व्यर्थ है। बैंचला पुलिस लाइन रोड स्थित भाजपा जिला कार्यालय में आयोजित किसान चौपाल के शुभारम्भ समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। राज्यभर में हर जिला मुख्यालय पर मोर्चा की ओर से यह कार्यक्रम आयोजित किए गए। अब 18 से 22 दिसम्बर तक प्रत्येक ग्राम पंचायत में इन किसान चौपालों का आयोजन किया जाएगा। इसके लिए प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। कार्यक्रम केे अंत में किसान मोर्चा कार्यकारिणी की बैठक भी आयोजित हुई।

इस अवसर पर बैंचला ने आगे केन्द्र व राज्य सरकार की ओर से किसान हितोें के लिए लागू की गई विभिन्न योजनाओं की जानकारी देते हुए उन्हें क्रान्तिकारी करार दिया। साथ ही इससे पहले कांग्रेस सरकार के द्वारा किसान हितों की पूरी तरह अनदेखी करने का आरोप भी लगाया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भाजपा जिलाध्यक्ष महिपत सिंह हाड़ा ने कहा कि कांग्रेस के राज की किसान विरोधी नीतियों के कारण किसान इतने बदहाल हो गए थे कि कोई भी अपने बेटे को किसान बनाना नहीं चाहता था, मगर भाजपा की केन्द्र व राज्य सरकार की नीतियों के चलते अब यह हालात जल्द ही बदलने वाले हैं। उन्होंने कार्यक्रम में मौजूद किसान मोर्चा के सभी कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों सहित किसानों से अपील की कि कमसे कम दो-दो गायें जरूर पालें। किसान जैविक खेती को बढ़ावा दें। भाजपा किसान मोर्चा के जिला अध्यक्ष महेन्द्र शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का लक्ष्य वर्ष 2022 तक किसानों की आमदनी दुगनी करना है। इसके लिए किसान मोर्चा के प्रदेश अध्य़क्ष कैलाश चौधरी व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अशोक परनामी के निर्देशानुुसार सभी कार्यकर्ता मंडल व पंचायत स्तर तक जाकर भाजपा किसान चौपाल लगाकर केन्द्र व राज्य सरकार की किसान हित सम्बन्धी योजनाओं की जानकारी देंगे। इसके लिए जिले के हर मंडल से पांच-पांच किसान कार्यकर्ताओं का चयन कर उन्हें एक दिवसीय प्रशिक्षण के लिए भाजपा प्रदेश कार्यालय, जयपुर भेजा जाएगा। भाजपा की आगामी योजना 18 से 22 दिसम्बर तक प्रत्येक ग्राम पंचायत स्तर पर किसान चौपाल आयोजित करने की है। ये प्रशिक्षित किसान कार्यकर्ता इन चौपालों में किसानों की समस्याओं का समाधान करने के साथ केन्द्र व राज्य सरकारों की योजनाओं की जानकारी भी देंगे। किसान मोर्चा के प्रदेश मंत्री मुकुट नागर, राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य अनिल जैन सहित, भाजपा महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष ललिता नुवाल, वरिष्ठ भाजपा किसान नेता नन्दसिंह सोलंकी आदि ने भी कार्यक्रम को सम्बोधित किया। इस अवसर पर भाजपा जिला महामंत्री शक्तिसिंह आसावत,वरिष्ठ नेता रामेश्वर मीणा, हुुमेरा कैसर सहित, किसान मोर्चा के शुभांग दौराश्री, रामसिंह हाड़ा, पप्पू खटाणा, उमाशंकर नागर, भीमसिंह गौड़, परमानंद मीणा, हीरासिंह, अमरजीत सिंह, वरिष्ठ भाजपा कार्यकर्ता डॉ. मनोज शर्मा बरूंधन, रामप्रसाद सैनी, बिहारी सैनी, भाजपा समर्थित सरपंच, पंचायत समिति सदस्य रामराज मेघवाल, पूर्व सरपंच बद्रीलाल मेघवाल आदि मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन कैलाश गौतम ने किया।

राज्य सरकार को भेजने के लिए ये तीन महत्वपूर्ण प्रस्ताव लिए

किसान मोर्चा के जिलाध्यक्ष महेन्द्र शर्मा ने बताया कि कार्यक्रम में किसानों की समस्याओं के समाधान के लिए तीन प्रस्ताव लेकर राज्य सरकार को भेज गए हैं। इन प्रस्तावों में जिले में उड़द व मूंग के खरीद कांटे लगाना, चम्बल की दायीं व बायीं नहरों में सोयाबीन, चावल व चारे की फसल के लिए निर्बाध रूप से 800 क्यूसिक मात्रा में बीस दिन से एक महीने तक प्रवाह जारी रखना व विद्युत निगम एक्सईएन कार्यालय में एक किसान प्रतिनिधि को कामकाज पर निगरानी रखने के लिए बैठने का अधिकार देने की मांग शामिल है।