लड़कियां छेड़ने पर स्कूल से निकाल दिया था गुरमीत सिंह को

0
319

न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क

दो साध्वियों के यौन शोषण मामले में 20 साल की सजा पा चुका डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत सिंह बचपन से ही बदमाश प्रवृति का था। उसके कई अापराधिक मामलों में फंसने से परिवार काफी परेशान था। गुरमीत सिंह दसवीं की परीक्षा में फेल हो गया था। इससे पहले उसे नवीं कक्षा में लड़कियों के साथ छेड़छाड़ करने पर उसे स्कूल से निकाल दिया गया था।

राम रहीम का जन्म राजस्थान के श्रीगंगानगर में 15 अगस्त 1967 को हुआ था। वह अपने पिता मघर सिंह के साथ डेरे पर जाया करता था, जो डेरे के दूसरे गद्दीनशीन शाह सतनाम जी के शिष्य थे। लेकिन शाह सतनाम जी ने राम रहीम को 23 साल की उम्र में डेरे की गद्दी सौंप दी।

डेरे के साधक रहे कई लोग बताते हैं कि राम रहीम को चुनने के मामले में शाह सतनाम जी से ग़लती हो गई।
राम रहीम का जीवन शुरू से ही विवादों में रहा है। वो न सिर्फ स्कूल के दिनों में लड़कियों को छेड़ता था, बल्कि आसपास के लोगों को भी काफी परेशान करता था। राम रहीम के आने के बाद आध्यात्म की जगह डेरा आराम की चीजों से भरने लगा था। यही कारण है कि उसकी करतूतें सबके सामने आ गईं और वो अब सलाखों के पीछे है।

Source: News 18 Hindi