ऐतिहासिक फैसला: दस नहीं बीस साल की सजा मिली है गुरमीत सिंह को

0
509
Gurmeet Singh (FILE PHOTO)

न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क
रोहतक के पास सुनारिया जेल में लगी विशेष अदालत में सीबीआई जज जगदीप सिंह ने सोमवार को डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम को दो साध्वियों से दुष्कर्म के मामले में दस-दस वर्ष की सजा सुनाई गई है। ये सजाएं अलग-अलग चलेंगी। इस प्रकार उसे कुल 20 सजा जेल में बिताने होंगे। साथ ही 15-15 लाख अर्थात कुल 30 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है। इनमें से 14-14 लाख रुपए पीड़िताओं को मुआवजे के रूप में दिए जाएंगे। सीबीआई प्रवक्ता अभिषेक दयाल ने यह जानकारी दी।

इस मामले में हालांकि सीबीआई ने गुरमीत सिंह के अपराध को रेयरेस्ट ऑफ रेयर बताते हुए अधिकतम अर्थात उम्र कैद की सजा की मांग की थी। वहीं बचाव पक्ष ने कहा था कि गुरमीत सिंह की सेहत, उम्र और उनके सामाजिक कार्यों के मद्देनजर कमसे कम अर्थात सात साल की सजा ही दी जाए। उल्लेखनीय है कि पहले इस प्रकार की जानकारी आ रही थी कि गुरमीत सिंह को दस-दस साल की सजाएं एक साथ ही काटनी होगी। मगर देर शाम सीबीआई व गुरमीत सिंह के वकील के फैसले की विस्तृत जानकारी दी। इस प्रकार उसे अपने 70 साल की उम्र तक जेल में बिताने होंगे।

सिर पकड़ कर नीचे बैठ गया और रोने लगा

जब सजा सुनाने के लिए गुरमीत सिंह को जेल से जज के सामने लाया गया तब वह लगातार रो रहा था। हाथ जोड़ कर जज से माफी की गुहार लगाता रहा। जैसे ही जज ने उसे सजा सुनाई वो सिर पकड़ कर जमीन पर बैठ गया। काफी देर तक रोता रहा। उसे बैरक में ले जाया जाने लगा तो जाने से इंकार कर दिया। करीब दस मिनट तक ऐसे ही बैठे रहने के बाद उसे बैरक में ले जाया जा सका।