कलिंग-उत्कल रेल हादसा: रेलवे की लापरवाही या आतंकियों का हाथ?

आतंकियों का हाथ होने की आशंका, एटीएस टीम मौके पर सबूत जुटाने के लिए रवाना, सीएम योगी आदित्यनाथ ने दिया हर मदद का आश्वासन, मौके पर भयावह हालात, हेल्प लाइन नम्बर 9760534054/5101 जारी

0
725

न्यूज चक्र @ सेन्ट्रल डेस्क

यूपी के मुजफ्फर नगर के पास खतौली में शनिवार शाम हुए कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस हादसे का कारण  प्रथमदृष्टया रेलवे की लापरवाही ही सामने आया है। जिस व्यक्ति के मकान में इस दुर्घटनाग्रस्त रेल की एक बोगी घुसी, उस सहित आसपास के अन्य लोगों के अनुसार यहां सुबह से ही पटरियों का काम चल रहा था। बीस-पच्चीस आदमी इसमें लगे हुए थे। मगर उन्होंने कहने के बावजूद मरम्मत जारी रहने का साइन बोर्ड या अन्य कोई संकेत मौके पर नहीं लगाया। इससे ट्रेन धीमी न होकर तेज गति से ही गुजरी। यह सवाल भी उठा है कि जब पटरियों की मरम्मत का काम चल रहा था तो कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस को पीछे स्टेशन से ग्रीन सिग्नल कैसे मिल गया? हादसे के पीछे आतंकियों का हाथ होने की आशंका के मद्देनजर एक शंका यह भी उठी है कि पटरियों की मरम्मत में लगे हुए लोग रेलवेकर्मी ही थे ना?

गौरतलब है कि कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस के करीब दस डिब्बे पटरी से उतर गए। इस बड़े हादसे में फिलहाल 23 यात्रियों की मौत और बड़ी संख्या में अन्य यात्रियों के घायल होने की खबर है। 56 घायलों को विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया जा चुका था। मृतकों और घायलों की संख्या और अधिक बढ़ने की आशंका है।

कुछ डिब्बे एक-दूसरे पर चढ़ गए हैं। उन्हें गैस कटर से काट कर घायल यात्रियों व शवों को बाहर निकाला जा रहा है । अंदर सैकड़ों यात्री फंसे हुए हैं ।साथ ही एक डिब्बा पास के एक मकान में जा घुसा।  इससे मकान मालिक घायल हो गया। परिवार के अन्य सदस्य भी मौत के मुंह से बचे। मकान बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। दुर्घटना स्थल पर भारी अफरातफरी का माहौल है। भयावह नजारा है। शाम 5.46 बजे यह हादसा हुआ था। ट्रेन उड़ीसा के पुरी से हरिद्वार जा रही थी। खतौली मुजफ्फर नगर से करीब पच्चीस किलोमीटर दूर है। ट्रेन को रात नौ बजे हरिद्वार पहुंचना था।

आतंकियों का हाथ होने की भी आशंका

जिस तरह से यह हादसा हुआ है उसके चलते इसके पीछे आतंकियों का हाथ होने की आशंका जताई गई है। इसी को देखते हुए नोएडा से एटीएस की टीम मौके से सबूत जुटाने के लिए रवाना हो चुकी है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर हादसे पर दुख जताते हुए हर प्रकार की मदद की बात कही है। रेलवे के पीआरओ अनिल सक्सेना ने मौके पर हर प्रकार की चिकित्सा सुविधा रवाना कर दिए जाने की बात कही। वहीं मौके के लिए मुजफ्फर नगर कलक्टर, एडीएम आदि प्रशासनिक, पुलिस व रेलवे के अधिकारी रवाना हो चुके थे। घायलों की मदद के लिए आसपास के लोग बड़ी संख्या में जुट गए थे। रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा मौके के लिए रवाना हो चुके थे। मौके पर हालात दिल दहला देने वाले हैं। हादसे के कारणों की जांच के सरकार ने आदेश दे दिए हैं। केन्द्रीय मंत्री संजीव बालियान मौके पर पहुंच खुद राहत कार्य में लग गए थे। घायलों को खतौली, मुजफ्फर नगर व मेरठ के अस्पतालों में शिफ्ट कर दिया गया था।  रेलवे के हेल्प लाइन नम्बर- 9760534054/5101