सिवाना प्रधान गरिमा के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पारित, गरिमा बोलीं- जनादेश की हत्या हुई

0
1014

न्यूज चक्र @ बाड़मेर
सिवाना पंचायत समिति की युवा प्रधान गरिमा राजपुरोहित के खिलाफ पेश किया गया अविश्वास प्रस्ताव बुधवार को पारित हो गया। इसका कारण कांग्रेस के कुछ सदस्यों के भाजपा का दामन थाम लेना रहा।                                     जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एमएल नेहरा की देखरेख में अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान हुआ। इसमें पंचायत समिति के 24 में से 18 सदस्यों ने वोट डाले। खुद प्रधान गरिमा भी मतदान में हिस्सा नहीं लेने वालों में शामिल रहीं।

जनादेश की हत्या हुई

इस घटनाक्रम के बाद प्रधान पद खोने वालीं गरिमा ने इसे सिवाना वासियों के जनादेश की हत्या बताया। उन्होंने कहा कि उनके खिलाफ कई दिन से साजिश हो रही थी। चुनाव में सिवाना की जनता ने तो कांग्रेस को अपना मत और समर्थन दिया था, मगर धनबल और प्रलोभनों की राजनीति ने जनता की आवाज को कुचल दिया। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी को रोकने के लिए कांग्रेस के नेताओं ने बलिदान दिए। मेरे परिवार ने अपनी जिन्दगी के अहम दशक इसी में लगा दिए। उसी पार्टी के झूठे दिलासों और प्रलोभनों ने कुछ लोगों को भ्रमित कर दिया। आज भी कई पक्के कांग्रेसी जनप्रतिनिधि मेरे साथ हैं। गरिमा ने यह भी कहा कि राजपुरोहित समाज की बेटी होने के नाते मेरा सभी समाज बंधुओं से भी अनुरोध है कि सिवाना की जनता के जनादेश को कुचलने वाले लोगों का साथ न दें। सिवाना ने कांग्रेस को जनादेश दिया था, ना कि भाजपा का दामन थामने वालों को।