कुख्यात डॉ. लाज व्यास अवैध भ्रूण लिंग जांच करते गिरफ्तार

पीसीपीएनडीटी प्रकोष्ठ की इस 82 वीं डिकाय कार्रवाई में दलाल सुनील शर्मा भी धरा गया

0
3412

न्यूज़ चक्र @ जयपुर/बून्दी/सेन्ट्रल डेस्क

राज्य पीसीपीएनडीटी प्रकोष्ठ ने मंगलवार को बून्दी में बड़ी कार्रवाई की। शहर के बाहरी इलाके चित्तौड़ रोड पर  स्थित व्यास नर्सिंग होम में अवैध भ्रूण लिंग जांच एवं अनाधिकृत रूप से गर्भसमापन में लिप्त स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. लाज व्यास सहित दलाल सुनील शर्मा को गिरफ्तार कर लिया। पीसीपीएनडीटी दल की बून्दी जिले में यह दूसरी कार्रवाई है। वहीं इस वित्तीय वर्ष में इस प्रकार की यह 28वीं तथा अब तक की 82 वीं सफल डिकाय कार्रवाई बताई गई है।

राज्य समुचित प्राधिकारी एवं मिशन निदेशक (एनएचएम) नवीन जैन के निर्देशन में इस ऑपरेशन को अंजाम दिया गया। जैन ने बताया कि लम्बे समय से बून्दी निवासी दलाल सुनील शर्मा के कोटा जिले सहित आसपास के क्षेत्रों की गर्भवतियों के गर्भस्थ शिशुओं की अवैध लिंग जांच व गर्भ गिरवाने में लिप्त होने की सूचना मिल रही थी। इस जानकारी की पुष्टि के बाद डिकाय ऑपरेशन की रणनीति तैयार कर डिकाय टीम तैयार की गई।

जैन ने बताया कि इसके तहत डिकाय गर्भवती महिला और सहयोगी को बोगस ग्राहक बनाकर दलाल सुनील के पास भेजा गया। इस पर उसने भ्रूण लिंग जांच के लिए 18 हजार रुपए लिए। इसके बाद सुनील डिकाय गर्भवती व सहयोगी को सोनोग्राफी करवाने के लिए शहर के बाहरी इलाके में स्थित व्यास नर्सिंग होम लेकर गया। वहां अस्पताल की संचालक एवं वरिष्ठ महिला रोग विशेषज्ञ डॉ. लाज व्यास ने डिकाय महिला की सोनोग्राफी कर गर्भस्थ शिशु के लिंग की जानकारी दे दी। यहां सोनोग्राफी से पूर्व गर्भवती महिला का फॉर्म एफ नहीं भरा गया। जैन ने बताया कि इसके बाद डिकाय महिला द्वारा इशारा मिलते ही राज्य टीम ने पीसीपीएनडीटी एक्ट के तहत डॉ. लाज व्यास व दलाल सुनील शर्मा को गिरफ्तार कर लिया। इसी के साथ डॉ. व्यास से 13 हजार रुपए व दलाल सुनील शर्मा से 5 हजार रुपए बरामद कर लिए गए। इन नोटों के नम्बर डिकाय गर्भवती को दिए गए हूबहू नम्बर निकले।
भ्रष्टाचार का लम्बा इतिहास
मिशन निदेशक जैन ने बताया कि डॉ. व्यास पूर्व में भी सहारा न्यूज़ चैनल के ऐसे ही मामले के स्टिंग ऑपरेशन में आरोपित रह चुकी हैं। इस आधार पर ही उन्हें चिकित्सा विभाग ने सरकारी नौकरी से बर्खास्त किया था। डॉ. व्यास के यहां दलाल सुनील शर्मा 17 वर्षों से वाहन चालक की नौकरी कर रहा है।

दर्द से तड़पती गर्भवती पर भी नहीं आई थी दया

उल्लेखनीय है कि डॉ. लाज व्यास पर सरकारी सर्विस के दौरान कई गम्भीर आरोप लगे। इस पर उन्हें लम्बे समय तक निलम्बित भी रहना पड़ा था। बून्दी चिकित्सालय में नियुक्ति के दौरान तो ये दर्द से बुरी तरह तड़प रही एक गर्भवती तक का ऑपरेशन बिना रुपए लिए नहीं करने की जिद पर अड़ गईं थीं। इस पर वह गरीब ग्रामीण अपनी पत्नी के जेवर उतार कर रात को ही बेचने के लिए सर्राफे की दुकान पर पहुंचा। दुकानें बंद होने का समय हो चुका था। दुकानदार को वह ग्रामीण संदिग्ध लगा तो पूछताछ की। इस बीच वहां से गुजर रहे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नरेन्द्र सिंह राणावत को मामले की जानकारी हुई। वे उस ग्रामीण सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं को साथ लेकर अस्पताल पहुंचे। अस्पताल परिसर में ही स्थित डॉ. लाज व्यास के आवास पर भारी हंगामा हुआ। इस पर प्रशासनिक अधिकारियों को मौके पर पहुंचना पड़ा था। इसके बाद डॉ. व्यास लम्बे समय तक निलम्बित रहीं थीं।
कार्रवाई में ये रहे शामिल
इस डिकाय कार्रवाई में सीआई पूरणमल यादव, डालचंद, लालाराम, बून्दी जिला पीसीपीएनडीटी समन्वयक राजीव लोचन गौतम, झालावाड़ के प्रभु लाल ऐरवाल, बारां के दीपक जैन और कोटा के प्रमोद कंवर शामिल रहे।