नजरिया: भाग्य से छींका टूटा

    0
    9926

    मध्य प्रदेश में किसानों के आंदोलन को लेकर राजनीति तो होनी ही थी। यह आंदोलन भारी हिंसक हुआ और इस पर पुलिस का एक्शन हुआ तो राहुल गांधी को गुस्सा आना वाजिब भी था। वैसे उनके चेहरे के हावभाव से तो यही लगता है कि वो चौबीसों घंटे तमतमाए रहते हैं।
    किसान आंदोलन पिछले कई दिनों से जारी था। फिर सरकार से वार्ता हुई तो उनकी कई मांगें मान ली गईं। इस पर किसानों के एक संगठन ने आंदोलन वापस ले लिया था, मगर दो किसान संगठन बाकी मांगों के लिए भी अड़े रहे। आंदोलन करना उनका हक है भी सही। मगर मंगलवार को मंदसौर में पार्श्वनाथ फोरलेन पर हजार से अधिक किसानों ने जाम लगा दिया। पुलिस ने जाम खुलवाने की कोशिश की तो उस पर पत्थरबाजी शुरू हो गई। साथ ही ट्रकों में तोड़फोड़ की जाने लगी। फिर भी मन नहीं भरा तो 25 से अधिक ट्रकों को आग लगा दी, जो लगभग पूरी तरह नष्ट हो गए, मतलब साफ करोड़ों रुपए आग के हवाले हो गए। न जाने कितनों की रोजी-रोटी पर संकट आ गया। इस पर भी पुलिस ने पहले किसानों पर आंसू गैस छोड़ी। किसान आसपास के खेतों में भाग गए और पास के एक थाने पर पथराव करने लगे। बूढ़ा पुलिस चौकी में तो आग भी लगा दी। किसानों का आरोप है कि यहीं पर पुलिस और सीआरपीएफ ने बिना चेतावनी दिए फायरिंग शुरू कर दी। अब यहां भी सवाल यह है कि अगर वास्तव में ऐसा हुआ भी था तो क्या इतना भारी उपद्रव करने वालों को भी कोई चेतावनी दिए जाने की जरूरत थी ? खैर फायरिंग में पांच किसानों की मौत बेहद अफसोसनाक है। बड़ी बात यह भी है कि जब छोटी-छोटी घटना के वीडियो क्लिपिंग सामने आ जाते हैं तो इतनी बड़ी घटना का ऐसा कोई प्रमाण सामने क्यों नहीं आया है? दूूसरे दिन बुधवार को भी  किसानों का राज्य के देेवास आदि में गाड़ियों को आग लगाने सहित अन्य तरीके से हिंसक आंदोलन जारी है।

    राहुल गांधी ने  किसानों की मौत की खबर आने के ठीक बाद मंदसौर पहुंचने की घोषणा कर दी। यह उनका राजनीतिक कर्तव्य बनता भी था । कांग्रेस​ के राज वाले किसी राज्य में ऐसी घटना हुई होती तो निश्चित रूप से भाजपा नेतृत्व भी किसानों को संयम से काम लेेेेने की सलाह देने की जगह वहां उनका समर्थन करने पहुंंचता। मसला यही है कि क्या राजनेता अपने निहित स्वार्थों के लिए उन्हें भड़काने की जगह देशहित में सही नसीहत देेना सीख पाएंगे? बहुत दुुखद है आज के दौर में तो ऐसा कोई नेेेता दिखाई नहीं दे रहा है।

       -जय सक्सेना