किसान अपने बेटे को भी किसान बनाने की सोचे

“ग्राम-2017’ का उद्घाटन समारोह

0
286

न्यूज चक्र @ कोटा

केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने पिछली सरकारों पर किसानों की अवहेलना किए जाने का आरोप लगाते हुए उन्हें जमकर कोसा। वे बुधवार सुबह यहां आरएसी मैदान में किसानों के मेले “ग्राम-2017’ के उद्घाटन समारोह को सम्बोधित कर रहे थे।

इस अवसर पर नायडू ने कहा कि आज एक्टर अपने बेटे को एक्टर बनाना चाहता है, टीचर अपने बेटे को टीचर बनाना चाहता है, लेकिन किसान से पूछो तो वह अपने बेटे को किसान बनाने से मना कर देता है। राजस्थान में जल स्वावलम्बन व खेती में नवाचारों पर किया जा रहा काम सराहनीय है। यह मॉडल दूसरे राज्यों को भी अपनाना चाहिए। प्याज पर चुटकी लेते हुए उन्होंने कहा कि यह काफी महत्वपूर्ण है। इसकी वजह से ही एक बार हम चुनाव हार चुके हैं। उन्होंने कृषि में फोर “आई’ कॉन्सेप्ट की जरूरत बताई। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि इरिगेशन, इन्फ्रास्ट्रक्चर, इंटरेस्ट रेट व इंश्योरेंस काफी अहम हैं। इन पर सभी को ध्यान देना होगा। वहीं, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि हाड़ौती कृषि हब है  यहां प्रदेश के अनुपात 76 फीसदी के मुकाबले 93 फीसदी भूमि पर खेती होती है। किसानों को सम्बोधित करते हुए सीएम बोलीं-जैविक खेती की ओर बढ़ो , नई हवा बहने लगेगी। अब हम 33 जिलों में 1हजार 150  जैविक खेती के क्लस्टर  बनाने जा रहे हैं। पिछले शासन में हुए परवन परियोजना के शिलान्यास पर उन्होंने कहा कि राजनीतिक रूप से नहीं, बल्कि असली रूप में पत्थर बनाने का काम हम करेंगे। उन्होंने कहा कि हमने किसानों को राजनीति से दूर रखा है। कुछ लोग ऐसा कर रहे हैं, मैं उन्हें कहूंगी कि वे काम करते तो कितना अच्छा होता। कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी ने कहा कि राजस्थान के किसान की पर केपिटा इनकम पहले जहां 64 हजार रुपए सालाना थी, वह अब 88 हजार हो चुकी है।

मंंत्रियों सहित कई देशों के एम्बेसेडर रहे मौजूद
कार्यक्रम में राज्य सरकार के मंत्री राजेंद्र राठौड़, किरण माहेश्वरी, बाबूलाल वर्मा, श्रीचंद कृपलानी, डाॅ. रामप्रताप, सांसद दुष्यंत सिंह, ओम बिरला, रामचरण बोहरा, विधायक भवानी सिंह राजावत, प्रहलाद गुंजल, चंद्रकांता मेघवाल, हीरालाल नागर, विद्याशंकर नंदवाना, संदीप शर्मा, राज्य किसान आयोग के अध्यक्ष प्रो. सांवर लाल जाट, राजस्थान राज्य वेयर हाउसिंग कॉर्पोरेशन के अध्यक्ष जनार्दन सिंह गहलोत व राजस्थान राज्य बीज निगम के अध्यक्ष शंभूसिंह खेतासर भी मौजूद थे। इनके अतिरिक्त म्यांमार के राजदूत यू.मोंग वाई, रूसी दूतावास के काउंसलर (कृषि) कॉन्सटेंटीन ए. मलाश्निकोव, यूक्रेन की राजदूत डाॅ. इगोर पोलेखा, रूसी दूतावास के ट्रेड कमिश्नर डाॅ. यूवी तरास्यूक, स्पेन दूतावास की टेरेसा बरेस बेनलोच सहित विभिन्न औद्योगिक संस्थानों के उच्चाधिकारी, राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारी व बड़ी संख्या में किसान मौजूद थे।

गुरुवार का दिन बेहद अहम

हाड़ौती में कृषि के लिहाज से गुरुवार काे बड़ा दिन रहेगा। एग्रीटेक मीट में 1000 करोड़ के 21 एमओयू होंगे। राज्य सरकार 100 करोड़ का एक ऐसा एमओयू भी करने जा रही है, जिसके तहत कोटा व बून्दी में राजस्थली कृषि उपज एंड हर्बल मंडी प्रा. लि. प्राइवेट हर्बल मंडी खोलेगा। साथ ही प्रोसेसिंग का काम भी होगा। कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी ने ग्राम में गुरुवार को होने वाले बड़े एमओयू को लेकर जानकारी दी। उन्होंने बताया कि कोटा-बून्दी के साथ-साथ कम्पनी ने उदयपुर के लिए भी रूचि दिखाई है।कम्पनी अश्वगंधा, रतनजोत, नीम गिलोय, करंज, एलोविरा, ईसबगोल, धोली मूसली, ब्राह्मी, तुलसी समेत अन्य औषधियां खरीदेगी। इन्हें प्रोसेस कर अर्क तैयार किया जाएगा। अब तक राजस्थान में इस तरह की मंडी कहीं भी नहीं है।

वसुंधरा दूसरे दिन भी रहेंगी मौजूद

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे गुरुवार को भी कोटा में रहेंगी। जिला कलक्टर ने बताया कि मुख्यमंत्री दोपहर 2 बजे से राज्य स्तरीय बैंकर्स कमेटी की बैठक लेंगी। शाम 4 बजे आरएसी मैदान स्थित एग्रीटेक मीट में एमओयू कार्यक्रम में भाग लेकर शाम 5 बजे जयपुर के लिए प्रस्थान करेंगी। कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी ने बताया कि पिछली ग्राम में जो एमओयू हुए थे, उनमें से ज्यादातर पर काम हो रहा है। इस बार एमओयू होंगे के लिए अलग से मॉनीटरिंग सेल बनाएंगे।