जेईई-एडवांस्ड 2017 : मैथ्स स्कोरिंग, फिजिक्स रही औसत, केमिस्ट्री ने उलझाया

गत वर्ष से इस बार आसान रहे दोनों पेपर। कुल 366 अंकों के दोनों पेपर में मैथ्स रहेगी स्कोरिंग। पेपर-2 में मैथ्स के 4 अंकों के सवाल में चारों विकल्प गलत होने से उठाएंगे आपत्ति। 4 जून को आंसर की तथा 11 जून को घोषित होगा रिजल्ट

0
1048

अरविंद @ कोटा

आईआईटी के लिए रविवार को हुई इंटरनेशनल प्रवेश परीक्षा जेईई-एडवांस्ड 2017 के दोनों पेपर गत वर्ष से आसान रहे। भीषण गर्मी के बावजूद देश के 120 शहरों के परीक्षा केंद्रों में अपना भाग्य आजमाने वाले 1 लाख 70 हजार परीक्षार्थियों को इससे राहत मिली।

विषय विशेषज्ञों ने दोनों पेपर का विश्लेषण करने के बाद बताया कि इस वर्ष पेपर-1 के मुकाबले पेपर-2 थोड़ा टफ रहा। दोनों पेपर 183-183 अंकों के थे। पेपर पैटर्न में मामूली बदलाव देखने को मिला। परीक्षार्थियों ने बताया कि ओवरऑल पहले पेपर में मैथ्स आसान रही, फिजिक्स के प्रश्न मॉडरेट थे, जबकि केमिस्ट्री के प्रश्न दोनों पेपर में कठिन रहे। परीक्षा के पेपर 0 से 9 तक 10 कोड में हुए।
पेपर विश्लेषण करने के बाद कॅरिअर पॉइंट के अकादमिक निदेशक शैलेंद्र माहेश्वरी ने बताया कि गत वर्ष जेईई-एडवांस्ड में कटऑफ 24 प्रतिशत​ थी, लेकिन इस वर्ष पेपर तुलनात्मक रूप से आसान होने से कटऑफ अधिक रह सकती है। उन्होंने पेपर-1 को आसान व पेपर-2 को कठिन बताया। इस बार दोनों पेपर में 21-21 प्रश्न ऐसे पूछे गए जिनमें 1 से ज्यादा सही विकल्प थे। सही उत्तर पर 4 अंक तथा गलत जवाब पर 2 अंक नेगेटिव थे।
मैथ्स में 4 अंकों के सवाल पर आपत्ति
पेपर-2 कोड-5 में मैथ्स के प्रश्न नं.47 में निश्चित  समाकलन के चार विकल्प दिए गए, विषय विशेषज्ञों के अनुसार, इनमें से एक भी सही विकल्प नहीं था। इससे विद्यार्थियों को परेशानी हुई। इस प्रश्न में बोनस अंक देने के लिए परीक्षार्थियों द्वारा आपत्ति दर्ज कराई जाएगी।
मैच द कॉलम में थोड़़ा बदलाव
प्रतिवर्ष जेईई-एडवांस्ड के पेपर में मैच द कॉलम प्रश्नों में केवल 2 कॉलम रहते थे। लेकिन इस वर्ष 3 कॉलम में से सही विकल्प मैच करना था। पेपर में 18 प्रश्न मैच द कॉलम से पूछे गए थे।
11वीं व 12वीं में वेटेज ऐसा रहा
पेपर-1 में कक्षा-11वीं से फिजिक्स में 31, केमिस्ट्री में 26 तथा मैथ्स में 30 अंकों के सवाल पूछे गए। जबकि कक्षा-12वीं से फिजिक्स में 30, केमिस्ट्री में 35 तथा मैथ्स में 31 अंकों के सवाल पूछे। इसी तरह पेपर-2 में कक्षा-11वीं से फिजिक्स में 21, केमिस्ट्री में 16 तथा मैथ्स में 13 अंकों के सवाल पूछे गए। जबकि कक्षा-12वीं से फिजिक्स में 40, केमिस्ट्री में 49 तथा मैथ्स में 48 अंकों के सवाल पूछे। 12वीं के प्रश्नों का वैटेज ज्यादा रहा।

न्यूक्लियस एकेडमी के निदेशक विशाल जोशी का मानना है कि इस वर्ष केमिस्ट्री से स्कोर तय होगा। कुल मिलाकर केमिस्ट्री के प्रश्न कठिन रहे, फिजिक्स में मॉडरेट प्रश्न पूछे गए , जबकि मैथ्स के सवाल आसान रहे। पेपर पैटर्न में कोई बड़ा बदलाव नहीं किया गया। पेपर-1 में सभी विद्यार्थियों के चेहरे खिले हुए दिखे। दोनों पेपर में केमिस्ट्री ने उनकी कठिन परीक्षा ली। केमिस्ट्री के 1-2 प्रश्नों पर संदेह होने से सभी संस्थानों की आंसर की में अंतर देखा गया।
4 जून को जारी होगी आंसर की
सबसे कठिन जेईई-एडवांस्ड परीक्षा की अधिकृत आंसर की आईआईटी, मद्रास द्वारा जोसा वेबसाइट पर 4 जून को जारी की जाएगी। इससे पहले कई कोचिंग संस्थान संभावित आंसर की जारी कर सकते हैं। जोसा की वेबसाइट पर परीक्षार्थी ओआरएस तथा स्केन रिस्पांस 31 मई से 3 जून तक देख सकेंगे। रिजल्ट 11 जून को घोषित होगा। आईआईटी, मद्रास की देखरेख में हुई जेईई-एडवांस्ड परीक्षा में 1.74 लाख परीक्षार्थियों ने ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराया था। इनमें 33 हजार 50 (19 प्रतिशत) लड़़कियां शामिल थीं। मगर करीब 1.70 लाख ने ही परीक्षा दी।